हरियाणा रोडवेज की किलोमीटर स्कीम को नहीं लिया वापस, विभाग ने जारी किये आंकड़े

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 27 Dec, 2018

हरियाणा रोडवेज विभाग की तरफ से कांग्रेस विधायक करण दलाल के आरोप लगाने के बाद सफाई दी गई है। विभाग की तरफ से डाटा जारी किया गया है जिसमें हरियाणा रोडवेज बेड़े में किलोमीटर स्कीम के तहत शामिल की जाने वाली बसों को लेकर पूरी जानकारी दी गई है। वहीं बताया गया है कि 190 बसों के टैंडर को माननीय कोर्ट के आदेश के बाद रोका गया है।

हरियाणा राज्य परिवहन विभाग (हरियाणा रोडवेज) द्वारा 700 बसें प्रति किलोमीटर की दर से भुगतान पर लेने का निर्णय लिया था, जिसके विरूद्ध 510 बसों बारे स्वीकृति पत्र जारी किए गए हैं। यह टैण्डर प्रक्रिया पूर्ण रूप से पारदर्शिता से की गई है। किसी भी व्यक्ति विशेष या वर्ग को कोई लाभ नहीं दिया गया है। ई-टैण्डर की प्रक्रिया को अपनाते हुए वह समाचार-पत्र में 21 अप्रैल, 2018 व 05 जून, 2018 को दो बार निविदाएं प्रकाशित करके यह प्रक्रिया पूर्ण की गई हैं। इस टैण्डर प्रक्रिया में देश भर से कोई भी व्यक्ति, फर्म समिति अथवा कम्पनी भाग ले सकते थे।

इस संबंध में जानकारी देते हुए हरियाणा राज्य परिवहन विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा रोडवेज की (सरकारी) बस का खर्चा लगभग 47.57 रुपए प्रति किलोमीटर आता है और जहां तक किलोमीटर स्कीम का सवाल है जो रेट तय हुआ है वह 31.01 रुपए से 37.30 रुपए है। परिचालक की सैलरी, टोल टैक्स, अडडा फीस व अन्य खर्चे लगाकर अतिरिक्त खर्चा 7.32 रुपए आयेगा जोकि लगभग 38.33 रुपए से लगभग 44.97 रुपए बनता है जबकि हरियाणा रोडवेज की बस पर प्रति किलोमीटर खर्च लगभग 47.57 रुपए है। अत: किमी स्कीम के तहत बस चलाने से राज्य परिवहन विभाग का खर्च कम होगा।

उन्होंने बताया कि पड़ोसी राज्यों (राजस्थान व पंजाब) में ट्रांसपोर्टर निजी बस मालिकों को प्रति किलोमीटर की दर से भुगतान तथा डीजल भी सरकार द्वारा दिया जाता है। इन राज्यों में परिचालक भी ठेकेदार के माध्यम से रखे गए हैं और बसें भी बीएस-3  मानक की हैं जबकि हरियाणा राज्य में ये बसें बीएस-4 मानक के अनुसार ली जाएंगी। पंजाब एवं राजस्थान में टैण्डरों की प्रक्रिया तकरीबन 2-3 वर्ष पहले हो चुकी हैं, उस समय डीजल का रेट आज से काफी कम था।

प्रवक्ता ने बताया कि इस स्कीम में मंत्री परिषद एवं वित्त विभाग के अनुमोदन उपरान्त ही डिपोवाइज बसें ऑलट की गई हैं, ताकि राज्य के हर जिले में सभी व्यक्तियों को सस्ती सुलभ एव विश्वसनीय बस सेवा दी जा सके।

उन्होंने बताया कि शेष बची 190 बसों का टैण्डर रद्द नहीं किया गया है, बल्कि माननीय पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय, चण्डीगढ़ के आदेश दिनांक 21 दिसंबर, 2018 के अनुसार एनआईसी  के माध्यम से ऑनलाईन लेकर पुन: टैण्डर आमन्त्रित किए जाएंगे।

प्रवक्ता ने बताया कि डिपो वाईज रेटस का स्पष्टीकरण/आंकलन निम्न अंक तालिका से देखा जा सकता है:-

Sr. No. Name of Depot Negotiated rates per KM including GST (in Rs.) Wrongly depicted final rates in a News paper after addition of miscellaneous expenditure Actual rates after addition of miscellaneous expenditure i.e. Salary of bus conductor, toll tax, parking fees etc. (approximately Rs. 7.32 Per KM)
1. Ambala 37.10 53.46 44.42
2. Bhiwani 36.50 52.86 43.82
3. Ch. Dadri 36.30 52.66 43.62
4. Chandigarh 37.30 53.66 44.62
5. Faridabad 36.75 53.11 44.07
6. Fatehabad 36.90 53.26 44.22
7. Gurugram 37.10 53.46 44.42
8. Hisar 36.75 53.11 44.07
9. Jhajjar 34.65 51.01 41.97
10. Bahadurgarh 31.01 47.37 38.33
11 Jind 36.40 52.76 43.72
12. Kaithal 34.30 50.66 41.62
13. Karnal 36.50 52.86 43.82
14. Kurukshetra 36.80 53.16 44.12
15. Narnaul 36.09 52.45 43.41
16. Nuh 36.75 53.11 44.07
17. Palwal 36.75 53.11 44.07
18. Panipat 34.75 51.11 42.07
19. Rewari 37.24 53.06 44.56
20. Rohtak 35.65 52.01 42.97
21. Sirsa 36.50 52.86 43.82
22 Sonepat 35.75 52.11 43.07
23. Yamuna Nagar 36.60 52.96 43.92

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *