रोडवेज हड़ताल में टूट रहा कर्मचारियों का सब्र, सीएम और परिवहन मंत्री के पोस्टर पर मारे जूते

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष
Ajay Atri, Yuva Haryana
Rewari, 22 Oct, 2018
प्राइवेट बसों को परमिट देने के विरोध में धरने पर बैठे रोडवेज कर्मचारियों का आज सातवां दिन है। हरियाणा कर्मचारी महासंघ के आह्वान पर 22 विभागों के कर्मचारी हड़ताल में शामिल हो गए हैं, जिसके चलते बिजली, पानी और सीवरेज जैसी मूलभूत सेवाएं भी अब प्रभावित होने लगी है। परिवहन व्यवस्था पहले से ही बुरी तरह चरमरा चुकी है, लेकिन सरकार है कि अपनी हठधर्मिता छोड़ने को तैयार नहीं है।
इसी से गुस्साए रोडवेज कर्मचारियों ने आज सातवें दिन धरनास्थल पर लगे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर में परिवहन मंत्री के पोस्टरों पर जम कर जूते मारे और नारेबाजी करते हुए सरकार के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली तथा कहा कि सरकार अपनी हठधर्मिता छोड़े, नहीं तो इसका अंजाम और भी बुरा हो सकता है।
तस्वीरों में मुख्यमंत्री व परिवहन मंत्री के पोस्टरों पर जूते मारता यह वही कर्मचारी है, जो पिछले 7 दिनों से सब्र का घूट पिए हुए बैठा था, लेकिन अब इससे रहा नहीं गया और इसने जूते उठाएं और पोस्टरों पर मारने शुरू कर दिए।

हड़ताल को लेकर धरने पर बैठे इन कर्मचारियों का कहना है कि सरकार अड़ियल रवैये पर उतारू है, जिसके चलते 22 विभाग धरने पर हड़ताल पर चले गए हैं और तमाम तरह की सेवाएं पूरी तरह ठप हो चली है, जिसके लिए सरकार पूरी तरह जिम्मेदार है। जहां तक 720 प्राइवेट बसों को परमिट देने का सवाल है तो यह 100 करोड़ का घोटाला है अगर सरकार सही है तो इस मामले की जांच कराएं और अगर रोडवेज यूनियन दोषी हुई तो हम पीछे हट जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *