अब पाकिस्तान को नहीं हरियाणा, पंजाब और राजस्थान को मिलेगा उनके हिस्से का पानी – नितिन गडकरी 

Breaking चर्चा में दुनिया देश बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Deepak Khokhar, Yuva Haryana

 Rohtak 26 March,2018

रोहतक में चल रहे तीन दिवसीय एग्रीकल्चर समिट का समापन हो गया। इस समारोह के आखिरी दिन केंद्रीय जल संसाधन- परिवन मंत्री नितिन गडकरी, इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की।

इस समारोह के दौरान गडकरी ने विशेष तौर पर पानी की समस्या के मुद्दे को उठाया।

हमारे देश के किसानों की समस्यों को समझते हुए गडकरी ने कहा कि किसानों के सामने पानी की बड़ी समस्या है और हरियाणा में अधिक रूप से पानी की जरूरत है।

1947 में बंटवारे के समय भारत और पाकिस्तान को तीन- तीन नदियां मिली थी। लेकिन आजादी के इतने सालों बाद भी भारत को उसके हिस्से का पानी पूर्ण रूप से नहीं मिल पाया है बल्कि पाकिस्तान सारा पानी व्यर्थ में बहकर जा रहा है।

लेकिन अब पाकिस्तान को जाने वाला पानी रोकेंगे और इसे हरियाणा, पंजाब और राजस्थान को देंगे।

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने नई योजना शुरू की है। जिससे पानी नहर की बजाय पाइप प्रणाली का इस्तेमाल करके किसानों तक पहुंचेगा।

जिससे 6000 करोड़ रुपये तक के भूमि अधिग्रहण की कीमत से भी बचा जा सकेगा।

उन्होंने ये भी ऐलान किया कि उतराखंड में 3 डैम बनाए जाएंगे। जिससे भारत की तीन नदियों के हिस्से से जो पानी पाकिस्तान जा रहा है, वो यमुना में आएगा और हरियाणा में पानी की कमी को दूर करते हुए इसे राजस्थान तक ले जाने का काम किया जाएगा।

वहीं हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि जीरो बजट खेती करके किसान कृषि व्यवसाय को लाभकारी बना सकता है।

उन्होंने बताया कि 1981 में कुरूक्षेत्र की भूमि पर तीन गायों से उन्होंने गौ पालन शुरू किया था।

आज दो सौ एकड़ भूमि में उनका गुरूकुल है और आज भी वो गाय पालने के साथ-साथ खेती कर रहे हैं।

देसी नस्ल की उनकी गाय 15 लीटर दूध देती है। गाय के गोबर से ही खाद बनाकर उसका इस्तेमाल फसल की पैदावार में किया जाता है।

वे यूरिया, कीटनाशक, स्प्रे आदि पर एक रुपये भी खर्च नहीं करते। राज्यपाल ने बताया कि एक देसी गाय की बदौलत तीस एकड़ भूमि में खेती की जा सकती है।

इस सूत्र को प्रत्येक किसान अपनाए तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का किसान की आय दुगुनी करने का संकल्प आसानी से पूरा हो सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *