जरूरतमंदों की सहायता के लिए झज्जर जिला प्रशासन की अनोखी पहल, जनवरी 2018 में शुरू हुआ सांझी मदद अभियान लगातार जारी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Jhajjar, 10 Jan, 2019

जरूरतमंदों की मदद के लिए झज्जर जिला प्रशासन ने अनोखी पहल की है। साल 2018 की शुरुआत में शुरू हुआ सांझी मदद का सफर बदस्तूर जारी है। नंगे पैरों को चप्पल जूते और बदन ढकने के लिए गर्म कपड़ों के साथ किताबें भी बच्चों तक पहुंच रही हैं। इस नेक काम का आईडिया जिला उपायुक्त सोनल गोयल का था ।

जिला उपायुक्त के आह्वान पर आम जनता के साथ सरकारी कर्मचारी और अधिकारियों ने भी अपनी इच्छा से कपड़े, जूते चप्पल ,किताबों और दूसरे घरेलू इस्तेमाल के सामान डोनेट किए हैं ।अब तक करीब आठ हजार लोगों को इसका फायदा हो चुका है। डीसी सोनल गोयल ने आज बहादुरगढ़ में झुग्गी झोपडियों में रह कर गुजर बसर करने वाले गरीब लोगों को गर्म कपड़े वितरित किए हैं।

साथी हाथ बढ़ाना, एक अकेला थक जायेगा मिलकर बोझ उठाना। ये बोल है साल 1957 में आई फिल्म नया दौर के। इन बोलों से जो संदेश समाज को दिया गया, आज उसी राह पर प्रदेश का जिला झज्जरआगे बढ़ रहा है। दरअसल, जिला उपायुक्त सोनल गोयल ने सांझी मदद नाम से एक अभियान चलाया है।

जनवरी 2018 में शुरू हुई सांझी मदद से अब तक आठ हजार लोगों को फायदा पहुंचाया जा चुका है। सांझी मदद में जरूरतमंद लोगों को कपड़े से लेकर जूते, चप्पल, किताबें और घर का जरूरी सामान दिया जा रहा है। जिला प्रशासन के पास ये सामान आम जनता पहुंचाती है। अब तो सरकारी कर्मचारी और अधिकारी भी अपने घरों में बिना इस्तेमाल रखा सामान सांझी मदद को डोनेट करने लगे हैं।

जिला उपायुक्त सोनल गोयल ने सांझी मदद अभियान के तहत सड़क किनारे फुटपाथ और झुग्गी झोपडियों में रहने वाले लोगों को सामान का वितरण किया। सोनल गोयल ने खुद अपने हाथों में नंगे बदन घूम रहे छोटे बच्चों को कपड़े पहनाया। महिलाओं को ठंड से बचने के लिए साडियां, सूट, स्वेटर और गरीब लोगों को गर्म कंबल दिए।

जिला उपायुक्त ने कहा कि उन्हे जरूरतमंदों की मदद कर सुकून मिलता है। उन्होनें बताया कि उनके शुरू किए इस अभियान को लोगों ने भी खूब समर्थन दिया है। उन्होंने जिले भर के लोगों से ऐसी चीजें जिनका वो उपयोग नहीं करते उन्हे गरीबों को साझी मदद अभियान के तहत लोगों तक पहुचाने की अपील की है।

कपड़े, जूते और खाने का सामान मिलने से बच्चों से लेकर बड़े तक खुश हैं और देने वालों को दुआयें भी दे रहे हैं। जिला प्रशासन के सांझी मदद में आम लोग की अपना सामान दान कर रहे हैं। इसके लिS बाल भवन झज्जर और बहादुरगढ़ अपना घर में 2 कलेक्शन सेंटर बनाए गए हैं। सांझी मदद सही से चलता रहे इसके लिये एक कमेटी भी बनाई गई ,है जिसकी बैठक हर महीने खुद जिला उपायुक्त ले रही है। बहरहाल जरूरतमंद लोगों को मिली मदद के बाद उनके चेहरे पर आई खुशी देखने का अनुभव हमे भी बेहद खास रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *