सरपंच बनकर बहू ज्योति ने किया गांव का विकास, अब वैज्ञानिक बन करेंगी देश का नाम रोशन

Breaking चर्चा में देश बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Hisar, 31 Oct, 2018

आज के समय में महिलाएं पुरुषों से किसी भी रूप में पीछे नहीं हैं। घर की जिम्मेदारियों के बावजूद आज महिलाओं ने हर क्षेत्र में एक बड़ा मुकाम हासिल किया है। ऐसा ही एक उदाहरण दिया है हिसार के गांव गामड़ा की सरपंच ज्योति ने। गांव की पढ़ी- लिखी बहू ने सरपंच पद का फार्म भरा और ग्रामीणों ने सरपंच के रूप में ज्योति को स्वीकार किया।

ज्योति का वैज्ञानिक बनने का सपना भी था, जो कि करीब 2 साल बाद पूरा हुआ है। अब सरपंच ज्योति नई दिल्ली में वैज्ञानिक के तौर पर कार्य करेंगी। बता दें कि जनवरी 2016 में ज्योति को गांव की सरपंच के रूप में चुना गया था। जिसके बाद ज्योति ने 2 साल के कार्यकाल में गांव के विकास के लिए काफी कार्य भी किए।

दिन में ज्योति गांव के मामलों में समझौते करवाती और रात को अपनी परीक्षा की तैयारी करती। अपनी लग्न और मेहनत से आज ज्योति ने अपना सपना पूरा कर दिखाया है और वह वैज्ञानिक बन बैठी हैं। गामड़ा गांव में कुल दस पंच हैं और जब तक उपचुनाव नहीं होता, तब तक इन सभी पंचो में से जिसके भी पास बहुमत होगी, वही तब तक कार्यभार संभालेगा।

ज्योति ने बीटेक की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास की हुई है। उन्होंने वैज्ञानिक तकनीकी सहायक पद के लिए 17 दिसंबर 2017 को एक टेस्ट दिया था। जिसके परिणाम में उन्होंन पूरे देश में 14वां रैंक हासिल किया।

ज्योति ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने पति नरेंद्र को दिया है। उन्होंने बताया कि पति नरेंद्र ने हर कदम पर पूरा साथ दिया है। सरपंच बनने के लिए भी उन्होंने साथ दिया और वैज्ञानिक की पढ़ाई में भी दोनों बच्चों को संभाल कर पूरा स्पोर्ट किया। ज्योति का कहना है कि वह गांव के लिए काफी कुछ करना चाहती थी, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर है। वह कहती है कि अब वैज्ञानिक के रूप में देश का नाम रोशन कर दिखाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *