सतलोक आश्रम प्रमुख रामपाल को बड़ी राहत, रोहतक कोर्ट ने रामपाल समेत 4 को किया बरी

Breaking चर्चा में देश बड़ी ख़बरें हरियाणा

Deepak Khokhar, Yuva Haryana
Rohtak, 1 May, 2018

सतलोक आश्रम करौंथा के संचालक रामपाल दास समेत 4 आरोपियों को स्थानीय कोर्ट ने जमीन धोखाधड़ी मामले में बरी कर दिया है। जबकि तीन आरोपियों को दोषी करार दिया है। दोषियों की सजा पर 7 मई को बहस होगी। इस मामले में एक आरोपी की मौत हो चुकी है, जबकि एक अभी भगौड़ा है। इस केस में रामपाल दास पर साजिश रचने का आरोप था।

विवादित संत रामपाल दास पर वर्ष 2006 में रोहतक के करौंथा आश्रम की जमीन की धोखाधड़ी का केस दर्ज हुआ था। इस बारे में करौंथा की कमला नामक महिला ने शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत के मुताबिक रामपाल दास ने वर्ष 1999 में धोखाधड़ी कर करौंथा आश्रम की जमीन अपने ट्रस्ट के नाम करवा ली। 12 जुलाई 2006 को रोहतक के करौंथा आश्रम को लेकर आर्य समाजियों और रामपाल समर्थकों में विवाद हुआ था।

इस विवाद के चलते आर्यसमाज के समर्थक सोनू नामक युवक की गोली लगने से मौत हो गई थी। तब रामपाल समेत दर्जनों समर्थकों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया था। इस घटना के 9 दिन बाद रोहतक के सिविल लाइन पुलिस स्टेशन में संत रामपाल समेत 9 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया। कमला की जगह कृष्णा को पेश कर रजिस्ट्री करा दी गई।

पुलिस ने कमला की शिकायत पर सभी आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 419, 420, 467, 468, 469, 120 बी व 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया था।

इस मामले में एसीजेएम हरीश गोयल की कोर्ट ने सतलोक आश्रम के संचालक रामपाल दास के अलावा राजेंद्र, रवींद्र ढाका व कृष्ण नंबरदार को बरी कर दिया। जबकि एक अन्य आरोपी राजेंद्र, रूबीना व कृष्णा को दोषी करार दिया। इस मामले में एक आरोपी सुनहरी देवी की मौत हो चुकी है, जबकि सतदेव को कोर्ट ने भगौड़ा घोषित कर रखा है।

 

Read This  News Also >>>>>

पंचकूला हिंसा के 6 आरोपी बरी, SIT को बड़ा झटका 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *