स्कूलों में नहीं है पूरा स्टाफ, करीब 54 हजार पद पड़े हैं खाली

Breaking बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 24 April, 2018

प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए लाख दावे किये जा रहे हैं, दफ्तरों में बैठकर फाइलों पर कार्रवाई भी की जाती है, लेकिन जो जमीनी हकीकत है वो कुछ और ही है।

एक समाचार पत्र के मुताबिक प्रदेश के लाखों छात्रों का भविष्य स्कूलों में पूरा स्टाफ ना होने की वजह से खराब हो रहा है। प्रदेश के करीब 21 लाख छात्रों की पढाई स्कूलों में स्टाफ की कमी के चलते बाधित हो रही है।

जानकारी के मुताबिक हरियाणा में प्राइमरी और सैंकेडरी शिक्षा विभाग में 1 लाख 49 हजार 859 पद स्वीकृत हैं, जबकि इनमें से करीब 98 हजार 189 पदों पर ही तैनाती की गई है, जबकि प्रदेश में करीब 53 हजार पद खाली पड़े हुए हैं।

कुल कितने पदों पर सीटें हैं खाली

एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में 54 हजार 308 पद रिक्त पड़े हैं, जूनियर लेक्चरर्स की अगर बात करें तो 38 हजार 130 पद कुल हैं, लेकिन इनमें से 21 हजार 607 पदों पर ही भर्ती की गई है, बाकी 16 हजार 523 पद अभी भी खाली पड़े हैं।

प्रदेश में मास्टरों के पद 18 हजार 757 हैं, लेकिन 10 हजार 489 पदों पर ही नियुक्ति की गई है, बाकी 8268 पद अभी तक खाली पड़े हैं।

 

प्रदेश में जिला शिक्षा अधिकारी यानी डीईओ के 21 पद हैं, लेकिन यहां पर सिर्फ 13 ही पद भरे हुए हैं, बाकी 8 सीटें अभी खाली है। इनके अलावा डीईईओ के 21 पदों में से सिर्फ 9 पदों पर ही नियुक्ति की गई है, बाकी सभी खाली पड़े हैं।

यही हाल जेबीटी शिक्षकों के मामले में है, प्रदेश में जेबीटी शिक्षकों के लिए 38 हजार 804 पद हैं, लेकिन यहां पर सिर्फ 33 हजार 645 पदों पर ही भर्ती की गई है, बाकी के 5159 पद खाली पड़े हुए हैं।

प्रदेश में 2161 पद प्रिंसिपल के लिए हैं, लेकिन इनमें से 1700 प्रिंसिपल ही कार्यरत है, ऐसे में 481 पद यहां पर भी खाली पड़े हुए हैं।

 

प्रदेश में शिक्षा का हब बनाने की चर्चा होती है, सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने की बातें होती है, लेकिन क्या स्टाफ की कमी में यह सब हो सकता है।

आए दिन छात्र अपनी बदहाल पढ़ाई व्यवस्था से परेशान होकर शिकायतें लगाते हुए घूमते हैं, कभी कहीं पर रोड जाम किया जाता है, कहीं पर लोग बच्चों की पढाई को लेकर अधिकारियों से भी मिलते हैं।

इनके अलावा सरकारी स्कूलों में स्टाफ की कमी का सबसे ज्यादा फायदा निजी स्कूल उठा रहे हैं, निजी स्कूल बच्चों को अपनी तरफ खींच रहे हैं और सरकारी स्कूलों को खाली करते जा रहे हैं।

 

श्रेणी                      कुल पद                 भरे हुए पद                  रिक्त पद

जूनियर लेक्चरर                                             38130                             21607                                            16523

मास्टर                                                          18757                               10489                                            8268

डीईओ                                                            21                                         13                                                  08

डीईईओ                                                          21                                         09                                                  12

जेबीटी                                                         38804                               33465                                              5159

प्रिंसिपल                                                         2161                                   1700                                               481

हेडमास्टर                                                      1228                                    517                                                 711

सीएंडवी                                                       19121                                  11939                                               7182

क्लर्क                                                           5509                                  4271                                                 1238

चतुर्थ श्रेणी                                                    12229                                 7323                                               4906

 

यह खबर भी पढ़ें >>>>

सराहनीय पहल- बेटा हो या बेटी, शिक्षा में टॉप करने पर मिलेगी स्कूटी

 

1 thought on “स्कूलों में नहीं है पूरा स्टाफ, करीब 54 हजार पद पड़े हैं खाली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *