Home Breaking लिंग अनुपात के मामले में पलवल के गांव कौंडल ने पूरे प्रदेश में लहराया अपना परचम, 1000 लड़कों के मुकाबले 1391 लड़कियों का आंकड़ा पार  

लिंग अनुपात के मामले में पलवल के गांव कौंडल ने पूरे प्रदेश में लहराया अपना परचम, 1000 लड़कों के मुकाबले 1391 लड़कियों का आंकड़ा पार  

0
0Shares

Bhagat Tewatia, Yuva Yuva Haryana

Palwal, 8 Oct, 2018 

लिंग अनुपात के मामले में गांव कौंडल ने 1000 लड़कों के मुकाबले 1391 लड़कियों का आंकड़ा पार कर पूरे प्रदेश में अपना परचम लहराया है। आज इस बात की जानकारी पलवल के जिला चिकित्सा अधिकारी प्रदीप शर्मा ने दी। उन्होंने कहा कि वह जिला प्रशासन से मांग करेंगे सरकार के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को सार्थक करने वाली ग्राम पंचायत को सम्मानित किया जाए, ताकि और भी पंचायतें इससे प्रेरणा लें।

पलवल जिला यू तो लिंगअनुपात में प्रदेश में 15वें स्थान पर है। लेकिन जिले का गांव कौडल  पूरे प्रदेश में 1000 लडकों के मुकाबले 1391 लड़कियों का आंकड़ा पार कर पहला स्थान बना चुका है। पलवल जिले में 17 गांव ऐसे हैं जिनमें 1000 लडकों के मुकाबले ज्यादा लड़कियां हैं।

जिनमें कौंडल में 1391 ,बांसवा  1370 ,मरौली  1294 ,सौंद 1250 ,भिडूकी1210 ,मलाई 1189 ,अधोप 1143, औरंगाबाद 1107, धतीर 1095 ,लिखी  1081, अर्बन होडल में 1076 कोट 1070 ,पिगोड 1065 ,बसंतगढ़ 1043,उटावड1037,मिडकौला1029, गौढोता में 1000 लडक़ों के मुकाबले 1000 लड़कियां हैं।

वहीं जिले के 14 गांव ऐसे हैं जिनमें 1000 लडक़कों के मुकाबले 800 से भी कम लड़कियां हैं । पलवल जिले के गांव डाडको में लड़कियों की स्थिति सबसे कम है, जिसमें 1000 लडकों के मुकाबले मात्र 459 लड़कियां हैं। वही गांव देवली में 500 , सिहोल में $522 ,दुधोला 595,गदपुरी में 600, मालूका 667,जटोली 735 लडकिया हैं।

14 गांव में लड़कियोंं की स्थिति बहुत नाजुक हैं। जिला सिविल सर्जन प्रदीप शर्मा ने लोगों से अपील की कि वो इस अभियान में बढ़-चढ़कर भाग लें, ताकि पलवल लिंगानुपात के सतर को सुधारा जा सके। उन्होंने कहा कि अन्य ग्राम पंचायत सामाजिक संस्थाओं में भी लोगों को इस अभियान में बढ़-चढ़कर भाग लेना चाहिए ।

गांव कौंडल के सरपंच संदीप तेवतिया ने गांव के लिंग अनुपात में प्रथम स्थान पर आने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह गांव के लोगों की जागरूकता व सामाजिक संस्थाओं के लगातार प्रचार प्रसार का परिणाम है। उन्होंने कहा कि जल्दी ग्राम पंचायत सामाजिक संस्थाओं को भी सम्मानित करेगी जो इस अभियान को बढ़ाने में निरंतर प्रयास कर रही है।

आर्य समाज कौंडल के प्रधान शेर सिंह आर्य ने कहा कि लगातार गांव में सामाजिक संस्थाएं भ्रूण हत्या को लेकर गांव में कार्यक्रम चलाती रहती है और इसी का परिणाम है कि गांव में 1000 लडकों के मुकाबले 1391 लड़कियां हैं ।उन्होंने कहा कि गांव के लिए खुशी की बात है और सभी लोगों को इस अभियान में सहयोग करना चाहिए।

 

 

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हरियाणा के कई जिलों में हल्की बारिश की संभावना, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, देखिए

Yuva Haryana, Chandigarh हकृवि -भारत…