FIR में उर्दू और फारसी की बजाय सरल शब्दों का हो प्रयोग- हाईकोर्ट

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Yuva Haryana
27 Nov, 2019

 दिल्ली पुलिस द्वारा FIR में उर्दू और फारसी भाषा का प्रयोग बंद करने को लेकर वकील विशालक्षी गोयल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। उन्होंने याचिका दायर कर कहा था कि उर्दू और फारसी भाषा के शब्द लोगों को समझ नहीं आते। जिस पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा है कि जब लोग आम भाषा में अपनी शिकायत दर्ज करवाते हैं तो पुलिस को भी FIR सरल भाषा में करनी चाहिए । जिसे  आम आदमी समझ सके। बता दें कि हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को FIR में उर्दू और फारसी भाषा का प्रयोग न करने को लेकर सर्कुलर जारी कर दिया है। जिसमें लिखा है कि दिल्ली पुलिस को 383 शब्दों की जगह सरल शब्दों का प्रयोग करना चाहिए। जिससे की आम आदमी आसानी से अपनी लिखवाई गई शिकायत को समझ सके।

मुख्य न्यायमूर्ति डीएन पटेल और न्यायमूर्ति सी. हरि शंकर की खंडपीठ ने कहा कि दिल्ली पुलिस को FIR में उर्दू व फारसी के ऐसे शब्दों का इस्तेमाल बंद करने को कहा है जो बिना सोचे समझे उपयोग किए जा रहें है।

वहीं दिल्ली पुलिस ने पीठ के सामने दलील दी 20 को सभी पुलिस थानों में उर्दू और फारसी के शब्दों का FIR में उपयोग बंद करने को लेकर सर्कुलर जारी कर दिया गया है। पीठ ने पुलिस को सत्यता को जांचने के लिए 10 थानों में दर्ज की गई 10-10 FIR की प्रतियां पेश करने का आदेश दिया है। जिससे पता लग सके कि दिल्ली पुलिस सर्कुलर का पालन कर रही है या नहीं। इस मामले में अगली तारीख 11 दिसंबर 2019 को होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *