स्केटिंग को खेल पॉलिसी से बाहर किए जाने से खफा खिलाड़ियों ने अनिल विज के निवास पर किया घेराव

Breaking खेल चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा के खिलाड़ी हरियाणा विशेष

Rajesh Sharma, Yuva Haryana

Ambala, 9 Jan, 2019

स्केटिंग खेल को हरियाणा खेल विभाग द्वारा खेल पॉलिसी से बाहर किए जाने से खफा प्रदेश से आए खिलाड़ियों ने खेल मंत्री अनिल विज के निवास पर किया घेराव और जोरदार प्रदर्शन किया। खेल मंत्री के आश्वासन पर भी स्केटिंग खिलाड़ी संतुष्ट नहीं हुए। इतना ही नहीं खिलाड़ियों व उनके परिजनों ने जींद उपचुनाव में भाजपा का बायकॉट करने की चेतावनी भी दे डाली। उन्होंने कहा कि जल्द दोबारा स्केटिंग खेल को कं खेल पॉलिसी में शामिल।

ये प्रदर्शनकारी इस खेल को दोबारा खेल पालिसी में शामिल करने की मांग कर रहे थे। प्रदर्शन को देखते हुए भारी पुलिस बल मंत्री के निवास शास्त्री कालोनी के बाहर तैनात किया गया। खिलाड़ियों का कहना है कि 12 जुलाई 2018 के अनुसार स्केटिंग खेल के इवेंट्स इनलाइन हॉकी रोलर हॉकी रोलर स्केटिंग प्रमाणिकता से रद्द कर दिया गया है। साथ ही साथ खेल मंत्री अनिल विज के द्वारा 2016 में इन सभी स्पोर्ट्स में जीते खिलाड़ियों को इनाम राशि देने की घोषणा की गई थी, लेकिन आज आलम यह है कि इन बच्चों को ना तो इनाम राशि दी गई है और ना ही कोई सुविधा आगे भी दी जा रही है।

वहीं इस गेम की प्रमाणिकता को भी खत्म कर दिया गया है। जिसको लेकर बच्चों के माता-पिता सहित बच्चे परेशान हो रहे हैं। इस खेल को सिर्फ हरियाणा में 15 हजार से बीस हजार बच्चे खेलते हैं। जिनमें 4 साल की उम्र से लेकर 18 साल तक की उम्र के बच्चे हैं। सरकार ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेल मैदान भी बनवाए हैं। मंत्री ने उन्हें किसी और खेल में महारथ हासिल करने को कहा है, लेकिन मांग है इसे दोबारा खेल पॉलिसी में शामिल किया जाए।

वहीं पंचकूला से आए कोच का कहना है कि पिछले 24 साल से हमारे बच्चे खेल खेल रहे हैं। अब इसे कैसे अन्य खेल को चुन सकते हैं। हमारे कई अंतर राष्ट्रीय खिलाड़ियों को सरकारी नौकरियां भी मिली हैं और 4 सरकारी स्केटिंग कोच भी विभिन्न जिलों में लगाए गए हैं। हमारे दो खिलाड़ियों नमन पारेख ओर अनूप यामा को सरकार ने अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया हुआ है। सरकार हर साल नगद इनाम भी देती है।

ऊपर से मंत्री हमे मिलने का समय नहीं दे रहे हैं और कहते हैं इस खेल के अलावा किसी और खेल को चुन लो। कोच का कहना है कि अगर हमारी मांग न मानी, तो सड़कों पर उतरने के साथ हो सका तो राष्ट्रपति से भी मिलेंगे। कोच का कहना है कि अब वे जींद में होने वाले उपचुनाव में भाजपा का विरोध करेंगे।वहीं खेल मंत्री ने खिलाड़ियों से मिलने के बाद कहा कि इस बारे में वे खेल निदेशक से बात करेंगे, जो भी होगा वो करेंगे।

वहीं सुरक्षा में खड़े डीएसपी अनिल कुमार ने बताया कि खिलाड़ियों ने कोई विरोध या घेराव नहीं किया। उनका कहना है कि इन्हें खेल मंत्री से मिलवा दिया गया है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *