कैंसर रोगियों के लिए बनी खास चाय, फलों-फूलों के छिलकों से तैयार की गई है चाय

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana, Kurukshetra
कैंसर रोगियों के लिए एक बेहद की खास किस्म की चाय तैयार की गई है। इसके नियमित सेवन करने से कैंसर जैसी घातक बीमारी को भी मात दी जा सकती है। यह चाय कैंसर रोगियों को रेडियोथैरेपी से होने वाले साइड इफेक्ट को कम करेगी और दर्द में काफी राहत देगी।

रेडियोथैरेपी के लिए सिकाई करने से पहले 60 एमएल की एक कप चाय और सिकाई के तुरंत बाद दूसरी कप यह चाय इसके दर्द को राहत देगी। इसका प्रयोग करने वाले कैंसर रोगियों पर इसका सकारात्मक प्रभाव देखने को मिला है।

इस विशेष चाय को भोपाल स्थित जवाहर लाल नेहरु कैंसर अस्पताल एवं रिसर्च सेंटर के वरिष्ठ साईंटिस्ट डॉ. एन गणेश ने तैयार किया है। ये चाय जिन रोगियों को पिलाई गई है। उनको थैरेपी में कम पीड़ा हुई है और उनका चिड़चिड़ापन भी काफी कम हो रहा है।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मस्यूटिकल साइंस की ओर से आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में हिस्सा लेने पहुंचे डॉ. एन गणेश ने बताया कि कैंसर का इलाज कीमोथैरेपी और रेडियोथैरेपी से किया जाता है। इस दोनों थैरेपी के दौरान मरीज के शरीर पर कई तरह के साइड इफेक्ट होते हैं।

डॉ. गणेश बताते हैं कि कैंसर में रेडियोथैरेपी के साइड इफेक्ट की वजह से शरीर की कई कोशिकाएं सिकुड़ जाती है, ऐसे में वैज्ञानिकों के सामने साइड इफेक्ट को रोकना ही सबसे बड़ी चुनौती है।

इस चाय को मुंह, गला, जीभ, लैरिंग, फैरिंग और आहार नली में कैंसर के रोगियों पर इस्तेमाल किया गया है। इस चाय का सेवन करने के बाद परिणाम 75 से 80 फीसद तक सकारात्मक रहे हैं। हालांकि लैरिंग-फैरिंग और आहार नली के मरीजों को कुछ कम असर रहा है। यह चाय एंटीऑक्सीडेंट का काम करती है, जिससे कोशिकाओं की विसंगतियां दूर होती हैं।

डॉ. एन गणेश ने इन चारों चाय के नाम अपने विभाग और सहयोग करने वाले उच्चाधिकारियों की समर्पित किए हैं। इनमें एक चाय का नाम मेस्मराइज आलस्पाइस टी है। दूसरी का नाम होप ऑफ ऑरेंज टी है जो चेयरमैन आशा जोशी को समर्पित है। तीसरी चाय का नाम डिवाइन द पॉम जैगरी टी है, जो सेंटर की सीईओ दिव्या पराशर के नाम पर है। चौथी चाय का नाम जवाहर द नॉटी टी रखा गया है जो सेंटर के सभी कर्मचारियों को समर्पित है।

डॉ. एन गणेश ने बताया कि यह चाय ताड़ के गुड़, संतरे, सौंफ, काली मीर्च, ताजी हल्दी, सौंठ व अन्य फलों के छिलकों से तैयार की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *