Home Breaking नामांकन के आखिरी दिन तक अगर प्रत्याशी की हो गई मौत, तो स्थगित होगा मतदान

नामांकन के आखिरी दिन तक अगर प्रत्याशी की हो गई मौत, तो स्थगित होगा मतदान

0
0Shares
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 26 March, 2019
हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने कहा कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान यदि मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के किसी उम्मीदवार की नामांकन पत्र भरने की आखिरी तारीख के दिन 11 बजे के बाद मृत्यु हो जाती है, लेकिन उम्मीदवार द्वारा नामांकन पत्र भरा जा चुका है तथा नामांकन पत्रों की जांच के दौरान भी नांमाकन पत्र सही पाया जाता है और नामांकन वापिस नहीं लिया जाता है तो इस स्थिति में मतदान की प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी।
यह जानकारी रंजन ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों की चुनावी तैयारियों को लेकर की गई समीक्षा बैठक के दौरान दी।
बैठक में रंजन ने कहा कि मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के किसी उम्मीदवार की मृत्यु की सूचना यदि मतदान वाले दिन मतदान षुरु होने से पहले मिल जाती है तो मतदान की प्रक्रिया को स्थगित कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि कोई निर्दलीय उम्मीदवार या किसी अन्य राज्य से मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल का उम्मीदवार है तो उस स्थिति में मतदान की प्रक्रिया को स्थगित नहीं किया जाएगा, मतदान की प्रक्रिया निरंतर चलती रहेगी।
उन्होंने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को इस बात से अवगत कराया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पहली बार  कश्मीरी  विस्थापित वोटरों के लिए विषेष सुविधा दी गई है। अगर कोई कश्मीरी विस्थापित वोटर उनके फॉर्म-एम व फॉर्म-12सी के साथ आता है तो जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा उनके वर्तमान रिहायषी प्रमाण पत्र, विस्थापित प्रमाण पत्र तथा पहचान पत्र के साथ सभी दस्तावेजों को पोर्टल पर अपलोड करना है।
रंजन ने कहा कि रात 10.00 बजे से सुबह 6.00 बजे तक लाउडस्पीकर के प्रयोग पर प्रतिबंध रहेगा। इसके साथ ही इस समयावधि के दौरान बल्क एसएमएस और डोर टू डोर अभियान पर भी प्रतिंबध रहेगा।
रंजन ने कहा कि 12 मई को हरियाणा में लोकसभा चुनावों के लिए मतदान होगा। इसलिए चुनाव डयूटी के दौरान सभी रिटर्निंग अधिकारी व सहायक रिटर्निंग अधिकारी अपने मोबाईल फोन को ऑन रखना सुनिश्चित करेंगे ताकि सीविजिल एप पर आने वाली शिकायत पर तुरंत कार्रवाई अमल में लाई जा सके। इसके साथ-साथ सभी अधिकारी चुनावों से सम्बन्धित सभी तैयारियों को पूरा करना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने डीएससी, लॉजिकल डाटा के बारे में फीडबैक लेते हुए कहा कि सभी अधिकारी अपने-अपने जिलों के सेक्टर अधिकारियों को विशेष ट्रेनिंग दें। उन्होंने सभी उपायुक्तों को निर्देश दिए की चुनाव डयूटी के दौरान किसी भी कर्मचारी की डबल डयूटी नहीं लगाई जाए।
बैठक में रंजन ने यह भी बताया कि नामांकन के समय सामान्य श्रेणी के उम्मीदवार को 25 हजार रुपये तथा अनुसूचित जाति व जनजाति के उम्मीदवार को 12 हजार 500 रुपये की नामांकन फीस देनी होगी। इसके अलावा सभी प्रत्याशी फार्म नम्बर-26 के सभी कॉलम को भर कर देंगे। कोई भी कॉलम खाली छोडऩे पर आवेदन पत्र रद्द हो जाएगा। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी का नाम व चुनाव चिह्नन के साथ-साथ प्रत्याशी का फोटो भी प्रकाशित किया जाएगा ताकि मतदाता को अपने मताधिकार का प्रयोग करते समय किसी प्रकार की कोई कठिनाई न आए। उन्होंने कहा कि प्रत्याशियों द्वारा किये जाने वाले वाले प्रचार के लिए जिला प्रशासन द्वारा स्थान निर्धारित कर दिये जाएं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी उपायुक्तों से 72 घंटों में हटवाएं गए अवैध पोस्टर व होर्डिग्स के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने यह निर्देश भी दिए कि जिलों में डिस्टरलियों पर विशेष नजर रखी जाएं। श्री रंजन ने अधिकारियों को निर्देष देते हुए कहा कि चुनाव के समय शराब की बिक्री व सप्लाई पर विशेष ध्यान रखें। इस कार्य की निगरानी के लिए अलग से कमेटी गठित की जाए, जो समय – समय पर निरीक्षण कर अवैध शराब की बिक्री व सप्लाई पर अंकुश लगाएगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देष दिये कि सभी लाईसेंस धारकों के हथियार अतिशीघ्र जमा करवा लिए जाए और चुनाव सम्पन्न होने तक कोई भी व्यक्ति कहीं भी हथियार लेकर घूमता नजर न आने पाएं।
उन्होंने कहा कि जिला के सभी एआरओ, सैक्टर मजिस्टै्रट, सुपरवाईजर और पोलिंग अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाए। सभी पोलिंग केन्द्रों का निरीक्षण करके वहां दी जाने वाली सभी आवश्यक सुविधाओं को सुनिश्चित किया जाएं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सभी जिलों में उन मतदान केंद्रों पर स्वीप (सिस्टेमैटिक वोटर्स एजुकेशन एंड इलेक्टोरल पार्टिसिपेशन) गतिविधियां चलाकर मतदान के प्रति आमजन को अधिक से जागरूक किया जाए जहां पिछले चुनाव में मतदान प्रतिशत कम था। 
उन्होंने कहा कि चुनाव के लिए एनसीसी व एनएसएस के 18 वर्ष से कम आयु के युवाओं को वोलेंटियर्स बनाया जाए ताकि मतदान में इनका सहयोग लिया जा सके। इसी प्रकार नेत्रहीन व अन्य दिव्यांगजनों के लिए जरूरत के अनुसार परिवार के ही किसी सदस्य को सहायक के रूप में नियुक्त किया जाए ताकि वे आसानी से मतदान कर सकें।
रंजन ने कहा कि सभी बूथों की सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जाएगी। प्रत्येक मतदान केंद्र पर यह भी लिखवाया जाए कि आप कैमरे की नजर में हैं। मतदान केंद्र पर नियुक्त अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ-साथ यहां दौरा करने वाले अन्य अधिकारियों की गतिविधियां भी कैमरे में रिकॉर्ड होंगी जिसकी आयोग द्वारा निगरानी की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में हर लोकेशन पर माइक्रो ऑब्जर्वर नियुक्त किए जाएं और मोबाइल नंबर सहित इनका पूरा विवरण आयोग की साइट पर अपलोड किया जाए। उन्होंने सी विजिल पर आने वाली शिकायतों की भी समीक्षा की और अधिकारियों को तय समय सीमा के भीतर इनके समाधान के निर्देश दिए।
Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

लॉक डाउन में ऑनलाइन पढ़ाई से परेशान छात्रों के लिए सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, पढ़िए

Yuva Haryana News, 15 July 2020 देशभर में …