एक बार फिर खाकी बदनाम, सब-इंस्पेक्टर ने मांगी 50 हजार की रिश्वत

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Ambala, 05 Nov, 2019

मामला अंबाला के पड़ाव थाना का है जहां पर तैनात दो पुलिस कर्मचारियों ने एक बार फिर खाकी की इज्जत को मिट्टी में मिला दिया है। इन कर्मचारियों ने हरियाणा पुलिस सेवा के नारे के साथ खाकी को भी बदनाम कर दिया है। इन कर्मचारियों पर दहेज पीड़िता से 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगने का आरोप है। मामला सार्वजनिक होने के बाद पड़ाव थाना पुलिस को आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करना पड़ा। लेकिन पीड़िता का अंदेशा है कि पुलिस अपने अधिकारियों को बचाने का प्रयास कर रही है। इसलिए पीड़िता ने परिजनों के साथ DSP को मामले के बारें में अवगत करवाया।

शिकायतकर्ता मीना कुमारी अंबाला छावनी निवासी का कहना है कि 6 साल पहले उसकी शादी गुड़गांव निवासी दीपक के साथ हुई थी। मीना ने आरोप लगाते हुए कहा कि शादी के कुछ दिन बाद ही उसके ससुराल वालों ने उसे दहेज के लिए प्रताड़ित करना शुरु कर दिया। कम दहेज लाने को लेकर उसे रात को घर से धक्के मार के बाहर निकाल दिया जाता था। मीना का आरोप है कि उसका पति दीपक कई बार दहेज को लेकर पंचायत भी बुला चुका है। दहेज को लेकर प्रताड़ित करने का सिलसिला थमा नहीं। बीते 24 अगस्त को उसेक पति दीपक ने शराब पीकर झगड़ा किया। शराब के नशे में दीपक ने उसे पीट पीटकर अधमरी कर रात को घर के बाहर फेंक दिया। तीन दिन बाद पीड़िता की मां उसे अपने साथ अंबाला ले आई। मीना ने अंबाला के वुमैन सिटी सैल में शिकायत की जिसके बाद उसे पड़ाव थाना भेजा गया। पड़ाव थाना में उसने FIR दर्ज करवाई। ASI ऋषिपाल को मीना के केस का जांच अधिकारी नियुक्त किया गया। ASI ने आरोपियों को पकड़ने का आश्वासन दिया था।

एसएआई ने मांगी रिश्वत……

पीड़िता ने ASI ऋषिपाल पर आरोप लगाते हुए कहा है कि अधिकारी ने पार्क में ले जाकर बातचीत करने के बाद 50 हजार रुपए नकद देने की मांग की। पीड़िता ने कहा कि अधिकारी ने गुड़गांव के लिए स्पेशल गाड़ी ले जाने व खाने पीने का बढ़िया इंतजाम करने को कहा। पीड़िता के अनुसार अधिकारी ने थाना के कर्मचारियों को भी चाय पिलाने को कहा। साथ ही यह बात भी कही कि यह सारा पैसा उपर जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *