हरियाणा में गन्ना किसानों को सौगात, 10 रुपये प्रति क्विंटल बढाया भाव

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 27 Dec, 2018

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि हरियाणा कृषि के क्षेत्र में देश के अन्य राज्यों के तुलना में बेहतरतम कर रहा है और आज इस कड़ी में आगामी गन्ना पिराई सीजन के लिए गन्ने के मूल्य में 10 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि करने का निर्णय लिया गया है और इसके साथ ही हरियाणा देश में गन्ने का सर्वाधिक मूल्य देने वाला राज्य बन गया है। अब गन्ने की अगेती किस्म के लिए 330 रुपये प्रति क्विंटल रुपये से बढ़ाकर 340 रुपये, मध्यम किस्म के लिए 325 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 335 रुपये प्रति क्विंटल तथा पछेती किस्म के लिए 320 रुपये प्रति क्विंटल से क्विंटल से बढ़ाकर 330 रुपये प्रति क्विंटल किया गया है।

यह जानकारी धनखड़ ने आज यहां पत्रकार सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए दी। उन्होंने कहा कि कच्चे आलू को भी आज भावांतर भरपाई योजना में शामिल कर दिया गया है। आमतौर पर फरवरी में निकलने वाले आलू को पहले इसमें शामिल किया गया था।

धनखड़ ने कहा कि हरियाणा में किसानों को सहकारी बैंकों से जीरो प्रतिशत की दर पर फसली ऋण उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी किसान कर्जा माफी के नाम पर लोगों को गुमराह कर रहे हैं बल्कि हकीकत यह है कि केवल अल्पकालीन फसली ऋण ही कुछ कांग्रेस शासित राज्यों में माफ करने की घोषणा की है। परन्तु हरियाणवी में इसे पुराने ऋण को नया ऋण में करवाना कहा जाता है।

ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि गन्ने की पैदावार प्रदेश में बढ़ रही है और इसको देखते हुए गुड़ व खाण्डसारी बनाने की अत्याधुनिक किस्म की इकाई लगाने के लिए एक कमेटी गठित की गई है जो 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देगी। पहले यह इकाईयां लघु उद्योग के रूप में छोटे स्तर पर थी। अब ऑर्गेनिक व मानव का हाथ भी न लगे ऐसी तकनीक से गुड़ व खाण्डसारी बनाने की इकाईयां लगाई जाएं। उन्होंने बताया कि किसान पेंशन योजना लागू करने के लिए अटल पेंशन योजना का दायरा बढ़ाने पर भी विचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि नारायाणगढ़ व भादसो चीनी मिल के प्रति किसानों का भुगतान एक सप्ताह के भीतर करने के निर्देश दिए गए हैं। भादसो चीनी मिल की ओर 11.18 करोड़ रुपये तथा नारायणगढ़ चीनी मिल की ओर लगभग 24 करोड़ रुपये बकाया है। उन्होंने बताया कि सरकार उन्हीं चीनी मिलों को आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाती है जो निर्धारित शर्ते पूरी करते हैं। यमुनानगर की सरस्वती चीनी मिल इस आर्थिक सहायता का लाभ उठा चुकी है।

धनखड़ ने बताया कि सोनीपत के कुछ गांवों ने रोहतक सहकारी चीनी मिल के साथ जुडऩे की मांग उठाई थी, जिसे पूरा कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *