ना जान की परवाह, न किसी का डर, नहर में बच्चों का खतरनाक स्टंट…

Yuva Haryana Faridabad, 13 July 2019 हरियाणा के फरीदाबाद में आगरा नहर पर कुछ नाबालिक बच्चे खतरनाक स्टंट बाजी करते हुए नजर आए। गंदे पानी की नहर में बच्चे नहाते हुए अपनी जान को जोखिम में डालकर स्टंट कर रहे है। बच्चों को गहरी नहर में स्टंड करने से कोई नहीं रोकता है। बच्चे करीब […]

Continue Reading

नहर में हो रहे हादसों का जिम्मेदार कौन?

Naval singh, Yuva haryana Tohana, 29 June 2019 जीवन अनमोल है। लेकिन कई बार मौज मस्ती या फिर छोटी- छोटी लापरवाही के कारण हम इसे खतरे में डाल देते है। ऐसा ही कुछ नहरों में नहाने वाले लोगों के साथ भी होता है। मौज मस्ती में नहाते नहाते कब उनकी जान पर बन आती है। […]

Continue Reading

जींद उपचुनाव की वोटिंग के लिए तैयारियों में जुटा प्रशासन, जानिए क्या है खास ?

Yuva Haryana Jind, 20 Jan, 2019 हरियाणा के जींद विधानसभा उपचुनाव के लिए आगामी 24 जनवरी को जिले के प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी महाविद्यालय में चुनावी डयूटी पर तैनात कर्मियों की रिहर्सल करवाई जाएगी। इस रिहर्सल में कर्मियों को चुनाव सम्बंधी आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जाएंगे और इलैक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन को लेकर हैंडस ऑन ट्रेनिंग प्रदान की […]

Continue Reading

हरियाणा में कहीं करोड़ों की बारिश, तो कहीं दिहाड़ी पर काम रही खिलाड़ी बेटियां

Yuva Haryana Kaithel, 20-04-2018 एक तरफ राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक जीतने पर करोड़ों रुपये का इनाम और सरकारी नौकरी भी पक्की। वहीं दूसरी तरफ  देश देशभर में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाने वाली कैथल जिले की फुटबॉलर बेटियाों की तरफ प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा। गरीबी के चलते ये बेटियां  इन दिनों […]

Continue Reading

168 छात्रों ने दी थी परीक्षा, हुए सिर्फ 2 पास, गुस्साए छात्रों ने यूनिवर्सिटी में ताला जड़ने की दी चेतावनी

Yuva Haryana Bhiwani, 16-04-2018 भिवानी के चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय के छात्रों का गुस्सा सांतवे आसमान पर है। इसका कारण यह है कि सोमवार शाम को विश्वविद्यालय ने BCA फस्ट इयर का रिजल्ट घोषित किया, जिसमें 168 में से सिर्फ 2 ही छात्र पास हैं। ऐसे में गुस्साए छात्रों ने जोरदार प्रदर्शन शुरू कर दिया है। […]

Continue Reading

किसानों की मेहनत चढ़ी बारिश की भेंट, प्रशासन की खुली पोल

Vinod Saini,  Yuva Haryana Hisar, 11-04-2018 बारिश में फसल नष्ट होने से किसानो के चेहरे पूरी तरह से मुरझा गए हैं। खून पसीने की कमाई को यह सोचकर मंडी लाया गया था कि फसल के अच्छे दाम मिलेंगे और वे लोग मालामाल हो जाएंगे। लेकिन प्रशासन की लापरवाही तो देखिये, किसानो को तिरपाल तक उपलब्ध […]

Continue Reading