दुश्मन को भी गले लगाना, ऐसी होली मनाना

… कुछ ऐसी होली तुम मनाना। दुश्मनों को भी गले लगाना।   रंग प्यार का घोल कर। प्रेम के बोल बोल कर। सभी का मन तुम हर्षाना। कुछ ऐसी होली तुम मनाना। दुश्मनों को भी गले लगाना।   गिरा देना नफरत की दीवार। करना सिर्फ प्रेम की बौछार। दिल से दिल को मिलाना। कुछ ऐसी […]

Continue Reading

देवर-भाभी का प्यार बढ़ाती होली

… देवर के संग होली खेलण का यो अलग नजारा हो सै माँ के जाये भाईयां तै भी भाभी का देवर प्यारा हो सै   आपणे मन की बात बैठ के या  साझी गल्यां करलें है देवर हो सै घणा लाडला या आपे कुची भरले है छोटे छोटे बालकां की ढ़ालां या बात बात पे […]

Continue Reading