दुश्मन को भी गले लगाना, ऐसी होली मनाना

… कुछ ऐसी होली तुम मनाना। दुश्मनों को भी गले लगाना।   रंग प्यार का घोल कर। प्रेम के बोल बोल कर। सभी का मन तुम हर्षाना। कुछ ऐसी होली तुम मनाना। दुश्मनों को भी गले लगाना।   गिरा देना नफरत की दीवार। करना सिर्फ प्रेम की बौछार। दिल से दिल को मिलाना। कुछ ऐसी […]

Continue Reading

देवर-भाभी का प्यार बढ़ाती होली

… देवर के संग होली खेलण का यो अलग नजारा हो सै माँ के जाये भाईयां तै भी भाभी का देवर प्यारा हो सै   आपणे मन की बात बैठ के या  साझी गल्यां करलें है देवर हो सै घणा लाडला या आपे कुची भरले है छोटे छोटे बालकां की ढ़ालां या बात बात पे […]

Continue Reading

हरियाणा की होली की बात है न्यारी

… रै कोलड़े की मार अर भाभी का प्यार रँगा गेल्या खीर चुरमें के स्वाद का वार होली के डांडे नै धोकण अर बैर , द्वेष नै तजकै बिखेरो भाईचारे की फुहार ल्यो आ ग्या रै यो होली का त्यौहार!   साल म्ह कितने इसे त्यौहार आवै सै जिनकी छाप पूरी जिंदगी भर रह ज्या […]

Continue Reading

सबनै कर द्यां लाल इबकै होली नै

… लाकै रंग गुलाल ईबकै होली नै आ सबनै कर दयां लाल इबकै होली नै छोट्टे बड्डे लोग लुगाई काका काकी ताउ ताई मां बाबू अर भाभी भाई अगड पड़ोसी अर अस्नाई सब मिलकै करां धमाल ईबकै होली नै लाकै रंग गुलाल ईबकै होली नै आ सबनै कर दयां लाल इबकै होली नै   फागण […]

Continue Reading