हाइटेक होंगे सरकारी अस्पताल, गांव-कस्बों के अस्पताल में मरीज देखेंगे PGI के डॉक्टर

Breaking बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन सेहत हरियाणा हरियाणा विशेष
अगर सरकार की एक महत्वकांक्षी योजना कामयाब रही तो जल्द ही गांव-कस्बों के सरकारी अस्पतालों में मरीजों को उन विशेषज्ञ डॉक्टरों की सुविधाएं मिल पाएंगी जो रोहतक, पंचकुला या चंडीगढ़ जैसे बड़े शहरों के अस्पतालों या PGI आदि में बैठे हैं।
हरियाणा का स्वास्थ्य विभाग प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए राज्य में पहली बार पायलट प्रौजेक्ट के आधार पर ‘टेली-मेडिसन’ की सुविधा शुरू करने जा रहा है। इसके तहत मरीज उनके घरों के आसपास स्थित स्वास्थ्य केन्द्रों में ही विशेषज्ञ चिकित्सों से उपचार ले सकेंगे।
योजना के अनुसार स्थानीय चिकित्सक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मरीजों की टेस्ट रिपोर्ट, जांच और क्लिनिकल पड़ताल करेंगे तथा मरीज का पूरा रिकार्ड स्कैन करेंगे। इसके उपरान्त आवश्यकतानुसार विशेषज्ञ चिकित्सकों की सलाह सॉफ्टवेयर से ली जाएगी। इसके अलावा पीजीआईएमएस चंडीगढ़ में क्षेत्रीय रिसोर्स सैंटर एवं टेलीमेडिसन इकाई स्थापित की जाएगी, जहां चिकित्सक दूरस्थ स्थित स्वास्थ्य केन्द्रों में उपस्थित गंभीर बीमारियों के मरीजों का उपचार करेंगे। 
इससे राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को न केवल विशेषज्ञ चिकित्सकों से उपचार करवाने की सुविधा प्राप्त होगी बल्कि उनको समय, पैसा तथा यातायात का परेशानी से भी छुटकारा मिलेगा। गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीजों को शीघ्र चिकित्सीय सहायता प्राप्त होगी तथा चिकित्सक अपने क्षेत्रों में ही रह सकेंगे। 
स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि टेलीमेडिसन की शुरूआत तीन स्तरों पर उपलब्ध करवाने की योजना है। इसके तहत पहले स्तर में स्वास्थ्य एवं कल्याण केन्द्रों से प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को ई-संजीवनी सॉफ्टवेयर से ऑनलाइन जोड़ा जाएगा। इससे इन केन्द्रों पर उपस्थित विशेषज्ञ चिकित्सक सॉफ्टवेयर के माध्यम से मरीजों की गंभीर बीमारियों का उपचार करेंगे। इसके दूसरे स्तर में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को जिला अस्पातलों तथा जिला अस्पतालों को मेडिकल कॉलेजों से जोड़ा जाएगा। 

1 thought on “हाइटेक होंगे सरकारी अस्पताल, गांव-कस्बों के अस्पताल में मरीज देखेंगे PGI के डॉक्टर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *