हरियाणा में है एक ऐसा मंदिर, जहां महिलाओं को नहीं है जाने की इजाजत

Breaking कला-संस्कृति चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryaha

Kurukshetra, 3 Dec, 2018

कुरुक्षेत्र के पेहोवा में कार्तिकेय का एक ऐसा मंदिर है, जहां महिलाओं को जाने की इजाजत नहीं है। इस मंदिर की कम ही लोगों को जानकारी है। ऐसा माना जाता है कि जो महिला इस मदिंर के गर्भ-गृह में प्रवेश करेगी, वह सात जन्मों तक विधवा रहेगी।

कई राज्यों के लोग यहां पूजा-अर्चना के लिए पहुंचते हैं। यहां महिलाओं के लिए स्पेशल बोर्ड भी लगाया गया है। हालांकि मंदिर में महिलाओं के जाने पर पाबंदी नहीं है, लेकिन गर्भ-गृह में जाने पर जरूर रोक लगाई गई है। इस बारे में मंदिर के महंत सीता राम गिरी ने बताया कि जब भगवान शिव को अपने उत्तराधिकारी का नाम चुनना था, तब माता पार्वती ने कहा था कि जो भी दुनिया का चक्कर लगाएगा, वही विजेता होगा।

कार्तिकेय के छोटे भाई गणेश ने पार्वती और शिव के ही चारो तरफ चक्कर लगाए और कहा कि वहीं उनके लिए पूरा संसार है। इसको लेकर गणेश कोविजेता घोषित किया गया। जिसके बाद कार्तिकेय नाराज हो गए, उन्होंने अपनी खाल और मां से मिला खून निकाल दिया और उन्हें श्राप दे दिया। उन्होंने गुस्से में उस वक्त कहा था कि जो भी महिला उन्हें ऐसे देखने आएगी, वह सात जन्मों तक विधवा रहेगी।

महंत ने बताया कि इसके बाद कार्तिकेय पेहोवा आए और उन पर सरसों का तेल चढ़ाया गया, ताकि उन्हें शांत किया जा सके। बताया जाता है कि इस मंदिर में पत्थर के दो ब्लॉक और भगवान कार्तिकेय की दो प्रतिमाएं हैं। जिनपर दिये जलते रहते हैं और श्रद्धालु इनमें तेल चढ़ाते हैं, जिससे पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती है।

हालांकि मंदिर के महंत ने यह भी बताया कि मंदिर में महिलाओं के जाने पर रोक नहीं हैं। लेकिन कार्तिकेय के पिंड को वे देख नहीं सकतीं। उन्होंने बताया कि गर्भ-गृह को लेकर महिलाओं को चेतावनी दी जाती है, अगर इसके बाद भी वह जाती हैं, तो उन्हें कोई रोकता नहीं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *