कोर्ट की रोक के बावजूद बच्ची का अंतिम संस्कार, न्यायालय ने रोहतक पुलिस को किया तलब

बड़ी ख़बरें हरियाणा

Deepak Khokhar, Yuva Haryana

Rohtak (19 April 2018)

रोहतक कोर्ट ने रोक के बावजूद बच्ची का अंतिम संस्कार करने के मामले में रोहतक पुलिस को तलब किया गया है। हालांकि कोर्ट में पुलिस कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई है। ऐसे में कोर्ट ने अब SP और केस के जांच अधिकारी से 30 अप्रैल तक जवाब मांगा है।

बता दें कि 15 अप्रैल को रोहतक के टिटौली गांव के खेतों में 6-7 साल की बच्ची का शव मिला था। यह शव बुरी हालत में था। फोरेंसिक जांच में शव को करीब एक सप्ताह पुराना बताया गया था जिसके बाद शव को पीजीआई रोहतक भिजवा दिया गया। वहां डाक्टरों के बोर्ड ने शव का पोस्टमार्टम किया और विसरा को जांच के लिए मधुबन लैब भिजवा दिया गया था। लेकिन पोस्टमार्टम में बच्ची के साथ किसी प्रकार के रेप की पुष्टि नहीं हुई।

इसके बाद सोनीपत के मानवाधिकार मामलों के वकील मोमिन ने रोहतक कोर्ट में याचिका दायर कर बच्ची का दोबारा पोस्टमार्टम कराए जाने की मांग की थी। बुधवार सुबह करीब 10 बजे एसीजेएम हरीश गोयल की अदालत ने मोमिन मलिक की अर्जी को खारिज कर दिया था।

पुलिस ने करीब 2 बजे ऑर्डर की कापी मिलते ही 3 बजे बच्ची का अंतिम संस्कार करवा दिया था। वहीं इस बीच मोमिन मलिक एडीएसजे अश्वनी कुमार की अदालत में दोबारा पोस्टमार्टम की अपील दायर कर चुके थे। कोर्ट ने 4 बजे शव के अंतिम संस्कार पर रोक लगाकर वीरवार को सुनवाई तय की। लेकिन यह आदेश पुलिस के पास 5 बजे पहुंचे, और पुलिस 3 बजे ही बच्ची का अंतिम संस्कार करा चुकी थी।

वीरवार को रोहतक कोर्ट में मामले की दोबारा सुनवाई हुई। जिसमें जानकारी मिली कि कोर्ट की रोक के बावजूद पुलिस ने बच्ची का अंतिम संस्कार करा दिया है। इस पर कोर्ट ने एसपी और केस के जांच अधिकारी से 30 अप्रैल तक जवाब मांगा।

 

य़ह भी पढ़ें-

CWG 2018 में पदक जीतने वाले हरियाणा के खिलाड़ियों ने, ईनाम में कटौती पर जताई नाराजगी

 

1 thought on “कोर्ट की रोक के बावजूद बच्ची का अंतिम संस्कार, न्यायालय ने रोहतक पुलिस को किया तलब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *