अभी भी बिना खरीद के मंडियों में पड़ा है किसान का पीला सोना, आढ़ती और सरकार नहीं खरीद रही गेहूं

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा

 

Maha Singh Sheoran, Yuva Haryana

Loharu,

सतनाली मंडी में हजारों क्विंटल गेहूं बिना खरीद के अटका पड़ा है तथा किसान और आढ़ती आमने-सामने आ गए हैं। किसानों का कहना है कि वे अप्रैल माह में मंडी में गेहूं लेकर आए थे तो हमारी गेहूं को बिकना चाहिए था लेकिन अब तक वह ऐसे ही पड़ा है वहीं आढ़तियों का आरोप है कि खरीद अधिकारियों ने
उन्हें गुमराह किया और गुपचुप ढंग से खरीद बंद कर दी।

आढ़तियों का आरोप है कि खरीद अधिकारियों के रवैये के कारण ही गेहूं की खरीद नहीं हो पाई जिससे कि किसानों और आढतियों के बीच टकराव की नौबत आ चुकी है। किसानों व आढ़तियों ने सरकार से मांग की है कि सतनाली मंडी में बचे हुए करीब 70 हजार बैग गेहूं की खरीद की जाए ताकि किसानों को उनके उत्पाद का पूरा पैसा मिले। वहीं आढ़ती अपनी मांग को लेकर खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कर्ण सिंह कंबोज से भी मिल चुके हैं।

बता दें कि सतनाली मंडी में इस बार खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा गेहूं की सरकारी खरीद की गई है। आढ़तियों का कहना है कि 26, 27 व 28 अप्रैल को मंडी में किसान जो माल लेकर आए एक मई को उसकी आखिरी बार खरीद हुई है। इसके बाद अधिकारियों ने यह कहकर गेहूं खरीदना बंद कर दिया कि हमारे पास बारदाना नहीं है और बारदाना आते ही सारा गेहूं खरीद लिया जाएगा।

आढ़तियों का आरोप है कि इसके पश्चात खरीद अधिकारियों ने गुपचुप ढंग से खरीद बंद कर दी। खरीद बंद करने से आढतियों के सामने विकट स्थिति पैदा हो गई क्योंकि किसान उनके पास जब माल लेकर आए तब खरीद चल रही थी। अब अगर किसान का माल नहीं खरीदा गया तो आढतियों के साथ झगड़े की नौबत
आ जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *