तीन अस्पतालों को पैनल में किया शामिल, कर्मचारियों-पेंशनभोगियों को होगा फायदा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
  • हरियाणा के कर्मचारियों के लिए राहत की खबर

  • तीन निजी अस्पतालों को पैनल में किया शामिल

  • कर्मचारियों, पेंशनभोगियों और आश्रितों को होगा फायदा

  • मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दी मंजूरी

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 03 Dec, 2019

हरियाणा के तीन निजी अस्पतालों को एनएबीएच पैनल में शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इसकी मंजूरी दे दी है। इससे राज्य सरकार के कर्मचारियों, पेंशनभोगियों और उनके आश्रितों को फायदा मिलेगा। इन अस्पतालों में इनडोर, डे केयर आधार पर मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल सेवाएं मुहैया करवाई जाएगी।

एपेक्स अस्पताल एवं ट्रॉमा सेंटर, पानीपत को पैनल में शामिल किया गया है। एसएल मिंडा मेमोरियल हॉस्पिटल (मोगा देवी मिंडा चेरिटेबल ट्रस्ट की इकाई), बागला रोड, बागला आदमपुर तथा एचसीएमसीटी मणिपाल हॉस्पिटल सेक्टर -06, द्वारका, नई दिल्ली शामिल हैं।

पैनल में शामिल निजी अस्पताल बिना किसी विलंब के मरीजों को दाखिल करेंगे। पानीपत का एपेक्स अस्पताल 51 बिस्तर का है। वहीं एसएल मिंडा अस्पताल आदमपुर 52 बैड का है। इसके अलावा एचसीएमसीटी मणिपाल अस्पताल, द्वारका की क्षमता 201 बैड है।

अपेक्स अस्पताल एवं ट्रॉमा सेंटर, पानीपत द्वारा सामान्य चिकित्सा, गाइनाकॉलॉजिस्ट, ऑर्थोपेडिक्स और यूरोलॉजी में जबकि एसएल मिंडा मेमोरियल अस्पताल, आदमपुर द्वारा सामान्य चिकित्सा, सामान्य सर्जरी,  प्रसूति एवं स्त्री रोग, आर्थोपेडिक्स सर्जरी तथा बाल चिकित्सा में सेवाएं प्रदान की जाएंगी।

इसी तरह, एचसीएमसीटी मणिपाल अस्पताल, द्वारका नई दिल्ली द्वारा सामान्य सर्जरी, सामान्य चिकित्सा, प्रसूति एवं स्त्री रोग, आर्थोपेडिक सर्जरी, ईएनटी, पीडियाट्रिक सर्जरी, कार्डियोलॉजी, कार्डियोथोरेसिक सर्जरी, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी (मेडिकल एंड सर्जिकल) न्यूरोलोजी, न्यूरोसर्जरी, ऑन्कोलॉजी (मेडिकल, सर्जिकल, रेडियेशन), प्रत्यारोपण (गुर्दे) और यूरोलॉजी सहित कई प्रकार की सेवाएं प्रदान की जाएंगी।

पैनल में शामिल निजी अस्पताल के स्तर पर एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। यह अधिकारी किसी भी शिकायत के मामले में संबंधित सिविल सर्जन या विभाग के साथ संवाद करेगा। उन्होंने बताया कि रोगियों की अत्यधिक संख्या होने पर जरुरत के हिसाब से जरुरी कदम उठाए जाएंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *