क्या सब्सिडी खाने के लिए किसानों को घटिया बीज दे रही हैं कम्पनियां ? भिवानी में किसानों ने सचिवालय के बाहर फेंके टमाटर

Breaking Uncategorized खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

परंपरागत खेती से हटकर सब्जियां और बागवानी की तरफ प्रेरित करने के उद्देश्य से सब्जियों के बीजों में दी जा रही सब्सिडी कुछ किसानों के लिए आफत बनकर आई है। भिवानी जिले के टमाटर उगाने वाले सैंकड़ों किसान सब्सिडी वाले बीजों के चक्कर में अपने उत्पादन से ही हाथ धो बैठे। फसल जब पकने को हुई, तब किसानों को बीजों की निम्र क्वालिटी का पता चला, जिसे उन्होंने उन्नत किस्म के बीज समझकर बोया था। जब उत्पादन शुरू हुआ तो मात्र 35 डिग्री में ही टमाटर ढीले होने शुरू हो गए तथा उनका आकार भी सामान्य से छोटा रहा, जिसे हिसार की मंडी में आढ़तियों ने लेने से नकार दिया।

इसी के चलते भिवानी जिला के खरकड़ी माखवान, धारण, दुल्हेड़ी क्षेत्र के किसानों ने खराब टमाटर को भिवानी के लघु सचिवालय के बाहर विरोध स्वरूप फेंक दिया। इन किसानों का आरोप है कि सरकार ने बागवानी विभाग के तहत टमाटर के बिज पर सब्सिडी के लिए जिस कंपनी को चुना है उसने खराब बिज बेचा, जिसके चलते उनकी टमाटर की पैदावार घटिया हुई। इन टमाटरों की किसी भी मंडी में बिक्री नहीं हो रही। इसलिए मजबूरन हमें टमाटर यहां फैंकना पङा है।

अपनी समस्या को लेकर ये किसान खराब टमाटर व उनके पौधों को लेकर कांग्रेस विधायक दल नेता किरण चौधरी के घर उन्हें ज्ञापन भी देने पहुंचे। किसानों का कहना था कि इस क्षेत्र के किसान लगभग साढ़े 400 एकड़ में टमाटर की खेती करते हैं। इसके लिए उन्होंने कृषि विभाग द्वारा एमआईडीएच स्कीम के तहत 8 हजार रूपये प्रति एकड़ सब्सिड़ी पर बीज उपलब्ध करवाए गए थे। जबकि उनका खर्चा प्रति एकड़ 70 से 80 हजार रूपये हुआ है। लेकिन खराब बीज होने के चलते उनकी फसल को अब मंडी में कोई नहीं खरीद रहा। इसीलिए उन्होंने विरोध का यह तरीका अपनाया है। किसानों ने मांग की है कि उन्हे कम से कम उनकी टमाटर की फसल की लागत का मुआवजा उपलब्ध करवाया जाए।
किसानों ने कहा कि वे हरियाणा सरकार की बागवानी व सब्जी को प्रोत्साहित करने की योजना से प्रभावित होकर टमाटर की खेती करने लगे थे, परन्तु अधिकारियों से मिलीभगत करके निम्र स्तर के बीजों को सब्सिडी वाले बीजों के पैनल में शामिल किया गया जिसके कारण उन्हें यह नुकसान हुआ है। वही कांग्रेस विधायक दल नेता किरण चौधरी ने सारे मामले में घोटाला किए जाने की बात कहकर जांच की मांग की है तथा जो भी दोष अधिकारी या कोई अन्य व्यक्ति इसमें शामिल हैं, उस पर जल्द कार्रवाई की मांग सरकार से की है, नहीं तो माना जाएगा कि भ्रष्टाचार के तार उपर तक जुङे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *