सरसो खरीद घोटाले में दो गिरफ्तारी, तत्कालीन मैनेजर और परचेजर गिरफ्तार

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Amit Sharma, Yuva Haryana
Tosham, 23 Nov, 2018

तोशाम में सरसों खरीद घोटाले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। डीएसपी के नेतृत्व ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें एक तत्कालीन मैनेजर है जबकि एक परचेजर शामिल है। जानकारी के मुताबिक खरीद के दौरान हजारों क्विंटल सरसों के गबन के मामले में बवानी खेङा सहकारी विपणन समिति लिमिटेड बवानी खेङा के तत्कालीन मैनेजर धर्मेंद्र व परचेजर सुरेंद्र को भिवानी से काबू किया गया है। दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश कर आरोपी सुरेंद्र को पांच व धर्मेंद्र को चार दिन के रिमांड पर लाया गया है।

रिमांड के दौरान आरोपियों ने घोटाले में विभिन्न अधिकारियों, कर्मचारियों व पांच-छह अन्य लोगों के संलिप्त होने की बात मानी है। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने बवानीखेडा अनाज मंडी में स्थित कॉपरेटिव सोसाइटी के गोदाम व एक प्राईवेट गोदाम से सरसों कब्जे में ली है। समाचार लिखे जाने तक सरसों की तुलाई का कार्य जारी था। कब्जे में ली गई सरसों का तीन हजार क्विंटल से ज्यादा होने का अंदाजा लगाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि गत 9 अगस्त को जिला प्रबंधक हैफेड भिवानी द्वारा तोशाम थाने में एक शिकायत दी थी। शिकायत में खरीद केंद्र तोशाम मंडी में दी बवानी खेङा सहकारी विपणन समिति लिमिटेड बवानी खेङा के माध्यम से 15 मार्च 2018 से 31 मई 2018 तक कुल 92 हजार 4 सौ 64.30 क्विंटल सरसों की खरीद की गई थी। खरीदी गई सरसों को हरियाणा वेयर हाउसिंग निगम व केंद्रीय भंडारण निगम के गोदामों मे भंडारण के लिए भेजा जाना था, परंतु हैफेड की तोशाम मंडी की 5 हजार 5 सौ 14.07 क्विंटल सरसों जिसकी कीमत 2 करोड़ 33 लाख 46 हजार 572 रुपये बनती है, यह सरसों हरियाणा वेयर हाउसिंग निगम या केंद्रीय भंडारण निगम के भंडार गृह में नहीं पहुंची।

सरसों खरीद प्रक्रिया में शामिल रहे दी बवानी खेङा सहकारी विपणन समिति लिमिटेड बवानी खेङा के तत्कालीन मैनेजर धर्मेंद्र कुमार व सुरेंद्र सिंह (पीयन कम चौकीदार) खरीददार सरसों तोशाम मंडी एवं अन्य की गबन में भुमिका है। गबन के चलते हैफेड भिवानी जिला कार्यालय को 5 हजार 5 सौ 14.07 क्विंटल सरसों भंडारण गृह में कम मिली। आशंका है कि इस खरीद प्रक्रिया मे खरीद पॉलिशी की पालना नहीं हुई। ऐसे में 5 हजार 5 सौ 14.07 क्विटंल सरसों जिसकी कीमत 2 करोड़ 33 लाख 46 हजार 572 रुपये बनती है का गबन मालूम हुआ। इससे साबित होता है कि यह सरसों न ही हरियाणा वेयर हाउसिंग निगम, केंद्रीय भंडारण निगम के गोदामों मे पहुंची और न ही तोशाम मंडी में उपलब्ध है।

इस कारण यह नुकसान दी हरियाणा राज्य सहकारी वितरण एंव विपणन प्रसंघ लिमिटेड को हुआ। शिकायत में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार हैफेड के पूर्व जिला प्रबंधक होशियार सिंह ने जिला प्रबंधक होने के नाते पर्यवेक्षक तथा अवलोकन का कार्य व्यक्तिगत तौर पर सही तरीके से नही किया व कर्मचारियों के साथ मिलिभगत करके विभाग भारी नुकसान पंहुचाया गया है जो कि जांच का विषय रहा। मामले में मुख्यालय की शिकायत पर दोनों के खिलाफ भादस की धारा 420/409/120  के तहत मामला दर्ज किया गया था। डीएसपी कुलदीप बैनिवाल ने दोनों को भिवानी से गिरफ्तार कर लिया है।

सरसों घोटाले में पुलिस की बड़ी कार्रवाई—