बेरोजगारी की मार पड़ी भारी, विवाहिता जिंदगी से हारी

अनहोनी सरकार-प्रशासन हरियाणा

Ajay Atri, Yuva Haryana
rewari,23-03-2018

बीजेपी सरकार ने भले ही प्रदेश में दो करोड़ बेरोजगारों को रोजगार देने के दावे किए हों, लेकिन हकीकत इससे कोसों दूर है।

आलम यह है की बेरोजगारी की मार से कई तिल-तिल मर रहे हैं, तो कई तंग आकर अपनी जिंदगी हार रहे हैं। आप सोच सकते हैं कि उन इंसानों की गरीबी से स्थिति कैसी होगी, जो बेरोजगारी से तंग आकर अपनाी जान देने की ठान लेते हैं।

इसका जीता जागता उदाहरण रेवाड़ी जिले के औद्योगिक कस्बे बावल में सामने आया है, जहां एक पढ़ी-लिखी 27 वर्षीय महिला ने बेरोजगारी और गरीबी से तंग आकर फंदा लगा लिया और अपनी जीवन लीला को खत्म कर दिया।

जानकारी के अनुसार मृतका मधु का पति मजदूरी का काम करता है, जिसकी कम पगार से घर का गुजर बसर नहीं हो रहा था। ऐसे में मधु ने अपनी जान को गंवाना ही बेहतर समझा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *