यूपी का गेहूं बिक रहा हरियाणा की मंडियों में, मंत्री बोले कानून बनाने से मर्डर भी कहां रुकते हैं

Breaking खेत-खलिहान बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

करनाल जिले की घरौंडा अनाज मंडी में उत्तरप्रदेश के कई हिस्सों से धड़ल्ले से गेहूं पहुंच रहा है। किसानों का आरोप है कि मुनाफे के चक्कर में कुछ व्यापारी बड़ी मात्रा में ऐसा गेहूं खरीद रहे हैं और साथ ही सरकार को चूना भी लगा रहे हैं।

शनिवार को घरौंडा मंडी का दौरा करने पहुंचे प्रदेश सरकार के मंत्री करण देव काम्बोज को आढ़तियो ने घेर लिया और मंडी में चल रहे यूपी के गेहूं के खेल का खुलकर विरोध जताया। आढ़तियो ने कहा कि प्रतिबन्ध के बावजूद व्यापारी मंडी में यूपी के गेहूं की ट्रेडिंग कर रहे है। यूपी का गेहूं आने के कारण मंडी की व्यवस्था बिगड़ चुकी है, बारदाने और लिफ्टिंग की दिक्कत बनती जा रही है। गेहूं ट्रेडिंग की शिकायत का वाजिब जवाब देने की बजाय मंत्री करणदेव कम्बोज ने कहा कि कानून सारी चीजो के लिए बना हुआ है, मर्डर के लिए भी कानून बना हुआ है तो क्या मर्डर नही होते। उन्होंने कहा कि कोई भी गलत काम करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई करने का प्रावधान है।

लोकल व बाहरी गेहूं की आवक से मंडी में पैर रखने की जगह नहीं बची। किसानों की मेहनत से उगाई गई गेहूं की फसल राहगीरों के पैरो और वाहनों के पहियों के नीचे कुचली जा रही है। सडकों पर बिखरे गेहू से अनाज का अनादर हो रहा है लेकिन प्रशासन इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा। मंडी में पहुंचे कर्ण देव कम्बोज ने गेहूं के कट्टों का वजन चैक करवाया और अधिकारियो को निर्देश दिए कि किसी भी सूरत में मंडी में यूपी का गेहू दाखिल नहीं होना चाहिए।

दरअसल उत्तरप्रदेश और राजस्थान की अनाज मंडियों में गेहूं हरियाणा के मुकाबले 150-200 रूपये सस्ता बिक रहा है। इसके चलते कुछ व्यापारी वहां से गेहूं खरीदकर उसे हरियाणा की सीमावर्ती मंडियों में बेच रहे हैं। राज्य सरकार ने इस समस्या से निपटने के लिए सीमाएं सील कर सभी वाहनों की चैकिंग करने के आदेश भी दिए थे लेकिन राज्य की कई मंडियों से ऐसी शिकायतें लगातार आ रही हैं।

ये  भी पढ़े

6 दिन के पुलिस रिमांड के बाद, ISI एजेंट भेजा जेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *