रोहतक का छोरा इंडिया की टेनिस टीम में दिखाएगा दम, मार्च में जायेगा ऑस्ट्रेलिया

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana, Rohtak

इंडिया रैंक नंबर-2 टेनिस का जूनियर खिलाडी वंश नांदल जो कि गांव बाहर का रहने वाला है उसके परिजनों और कोच का ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा जब भारत का प्रतिनिधित्व करना का मौका मिलने की खबर मिली। आपको बता दे 13 साल का वंश नांदल पिछले 7 साल से टेनिस खेल रहा है जिसमे उसने प्रतिष्ठित आल इंडिया टेनिस रैंकिंग (AITA) में अपनी मेहनत के बलबूते पर नंबर-2 की जगह बनाई हुई हैं। छोटे से किसान का बेटा वंश नांदल ने पहली बार लॉन टेनिस का रैकेट 6 साल की उम्र में पकड़ा और उसके बाद कभी नहीं छोड़ा।

वंश के पिता अनिल नांदल कहना हैं  कि वो अपने बेटे क़ो खेल में डालना चाहते थे पर ऐसा कभी नहीं सोचा था कि लॉन टेनिस जैसे महंगे खेल में उनके बेटे का करियर बनेगा।  अनिल नांदल ने बताया कि वंश बचपन में बहुत शरारती था और उन्होंने उसकी एनर्जी क़ो सही दिशा में लगाने के लिए किस खेल में डाला जाये ढूंढ़ना शुरू किया। जिसके बाद वह कई खेलो के ग्राउंड पर गए पर बात ना जमने पर वो राजीव गाँधी खेल परिसर में पहुंचे और हरे-हरे लॉन टेनिस के ग्राउंडों ने उनका मन मोह लिया और बेटे का उस समय के कोच श्रवण कुमार की देखरेख में खिलाना शुरू करवा दिया।

 

वंश की अचीवमेंट का ज़िक्र करते हुए, अनिल ने बताया कि वंश नांदल ने अंडर-12 में इंडिया नंबर-1 रहते हुए साउथ एशिया–काठमांडू में हुई अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड मैडल जीता। उसके बाद अंडर-14 SGFI में स्टेट में गोल्ड मैडल जीता, फिर रैंकिंग खेलते खेलते अंडर-14 में इंडिया नंबर-2 का मुकाम हासिल किया।

वंश ने कहा कि उसकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा जब AITA कि तरफ से ईमेल आयी की उसका चयन भारत कि टीम में वर्ल्ड जूनियर टेनिस कम्पटीशन के लिए हुआ है जो कि गोल्डकोस्ट ऑस्ट्रेलिया में है। भारत के लिए खेलना ही मेरा सपना है जिसके लिए मैं 28 मार्च से लेकर 4 अप्रैल तक ऑस्ट्रेलिया में होने वाले कम्पटिशन की तैयारी के लिए जी जान से जुटा हुआ हूँ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *