गांव की जमीन पर बीजेपी दफ्तर बनने के विरोध में धरने पर बैठे गांव वाले, सांसद राजकुमार सैनी आए समर्थन में

Breaking बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा

 

Suraj Duhan, Yuva Haryana

Gurugram

 

गुरुग्राम के साइबर सिटी सिलोखरा गांव में बन रहे बीजेपी दफ्तर पर हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा। ग्रामीण आज चोदवें  दिन भी धरने पर बैठे रहे और अपनी मांगो पर अड़े रहे। गाव वालों का सरकार पर गांव की जमीन पर बीजेपी दफ्तर और ग्रुप हाउसिंग बनांने का विरोध है। जो विरोध अब उग्र होता जा रहा है।

वहीं इस विवाद में राजकुमार सैऩी कूद पड़े है। सांसद  राजकुमार सैनी ने भी गांव वालों को समर्थन देने की बात कही |  राजकुमार सैनी ने यह भी कहा कि प्रशासन को जवाब देना होगा कि जब विकास कार्य कराने का आश्वासन दिया गया था तो क्यों नहीं कराया गया। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा कार्यालय और ग्रुप हाउसिंग के निर्माण के लिए तालाब, तीर्थ स्थल का अस्तित्व क्यों मिटाया जा रहा है? इसके लिए शिवमंदिर क्यों तोड़ा गया?

गांव सिलोखरा सहित 360 गांवों के नागरिकों को विकास के लिए आंदोलन करने पर क्यों विवश किया जा रहा है? सांसद ने कहा कि जब पंचायत और नगर निगम ने इस जमीन का मुआवजा नहीं लिया तो कौन इसका मालिक बना और कैसे अलॉटमेंट हुआ? इन तमाम बातों को मैं मुख्यमंत्री के समक्ष रखूंगा और संसद में भी उठाऊंगा।

राजकुमार सैनी ने कहा कि हम सिलोखरा के नागरिकों के आंदोलन के साथ हैं और न्याय दिलाकर रहेंगे। राजकुमार सैनी ने सिलोखरा के नगारिकों को आश्वस्त करते हुए कहा कि कहा कि हम इस संबंध में मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात करेंगे और सिलोखरा के नागरिकों के खिलाफ दर्ज किए गए मुकदमे को वापस कराएंगे। हरियाणा यादव संघ के अध्यक्ष सतीश यादव ने पुन: धरने को समर्थन देते हुए कहा कि जब तक सरकार भाजपा कार्यालय और ग्रुप हाउसिंग को शिफ्ट करने के साथ फर्जी मुकदमे वापस लेकर विकास कार्य शुरु नहीं कराती है तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

बता दें कि  साइबर सिटी का एक ऐसा गांव है जिसकी जमीन बेसकीमती बताई जाती है। गांव की लगभग 12 एकड़ पंचायती जमीन को हुड्डा विभाग ने अपने आधीन कर लिया और उसमे से कुछ एकड़ जमीन  बीजेपी को दी गयी जहा पर  बीजेपी कार्यलय  बनाया जा रहा है।   जिसका  बीजेपी के बड़े नेताओ दुवारा उद्घाटन किया गया। उसी दौरान  भी गांव में इस जमीन को लेकर विरोध जारी था।

 

ग्रामीणों का कहना था की इस जमीन पर तालाब ,सामुदायिक केंद्र ,पार्क बनाया जाये, लेकिन जिला उपायुक्त द्वारा ग्रामीणों को आश्वाशन दिया गया था की उनकी मांगो को भी पूरा किया जाएगा और वहां तालाब पार्क सामुदायिक केंद्र का भी साथ साथ निर्माण कराया जाएगा। लेकिन बीजेपी कार्यलय का काम तो शुरू हो गया पर तालाब,पार्क,सामुदायिक काम शुरु नहीं हुआ। जिसका विरोध करने पर ग्रामीणों पर मुकदमा दर्ज कर दिया गया और अब ग्रामीणों आर पार की लड़ाई के लिए अड़े है। गांव वालों ने कहा है कि वे महापंचायत करके दूरसे राज्य से मदद मांगेगे और  बड़ा आंदोलन कर  धरने पर बैठेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *