कंपनी ने वाटरप्रुफ फोन बताकर ग्राहकों को बेचा था, जब जज के सामने पानी में डाला फोन तो हुआ ये हाल

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Pardeep Dhankar, Yuva Haryana
Jhajjar, 18 Oct, 2018

झज्जर की उपभोक्ता अदालत में बुधवार को एक मोबाइल कंपनी के स्टाफ को शर्मसार होना पड़ा। कंपनी का दावा था कि उनका फोन पानी में खराब नहीं होता,हालांकि उपभोक्ता का तर्क था कि ये कंपनी का झूठा प्रचार है। इस बहस के बीच में उपभोक्ता फोरम के जज ने मोबाइल फोन को पानी में डलवाया तो वो खराब हो गया। अब इस केस में जज ने मोबाइल कंपनी को आदेश दिया है कि वो उपभोक्ता को फोन ठीक करके दे, या उसके फोन की कीमत उसे दी जाए। यही नहीं हर्जे-खर्चे के रूप में कंपनी को साढ़े सात हजार रुपए की राशि भी पीडि़त उपभोक्ता को देना होगी।

आपको बता दे कि झज्जर के घोषियान मोहल्ला निवासी साहिल जसवाल पुत्र कुलभूषण ने 2 मई 2017 झज्जर की शॉप से सैमसंग कंपनी का मोबाइल फोन 56 हजार 900 रुपए में लिया था। कुछ महीनों पूर्व फोन खराब हो गया। उसमें मैनुफेंक्चरिंग डिफाल्ट आ गया। कंपनी की ओर से कोई रिस्पांस न मिलने पर एडवोकेट रजनीश ने पीडि़त उपभोक्ता की ओर से उपभोक्ता फोरम में कंपनी के खिलाफ याचिका दायर की। इस मामले के बाद अदालत ने कंपनी को आदेश दिया कि उपभोक्ता को फोन ठीक करके दिया जाए। इसके बाद 11 अक्टूबर को कंपनी ने उपभोक्ता को मोबाइल दिया कि ये ठीक हो गया है।

इस दिन भी उपभोक्ता ने अपने मोबाइल को पानी में डाला तो वो खराब हो गया। इस मामले में फिर 17 अक्टूबर को सुनवाई हुई। उपभोक्ता के वकील शर्मा ने जज से कहा कि कंपनी का प्राचार झूठा है फोन पानी में जाने से खराब हो रहा है और उसे अब तक कोई राहत नहीं मिली है। तब अदालत में मौजूद कंपनी के नुमाइंदों ने कहा कि मोबाइल फोन ठीक कर दिया गया है और पानी में जाने से भी खराब नहीं होग। इसके बाद जज ने जब अपने सामने मोबाइल को पानी में डलवाया तो वो खराब हो गया। अब इस मामले में जज ने कंपनी को मोबाइल की पूरी कीमत देने के आदेश देकर केस की सुनवाई के लिए 25 अक्टूबर का समय दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *