हरियाणा में मौसम विभाग का अलर्ट, दो दिनों तक रुक-रुककर हो सकती है बारिश

Breaking खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Manu Mehta, Yuva Haryana
Gurugram, 29 August, 2018
हरियाणा के कुछ हिस्सों में तेज बारिश की संभावना भी जताई गई है. हालांकि अगले दो दिनों तक बारिश आयेगी। गुरुग्राम में बारिश की संभावना अभी भी बनी हुई है. हालांकि हरियाणा के कुछ हिस्सों में तेज बारिश की संभावना है तो वही गुरुग्राम में मॉड्रेट रैन यानी रुक रुक कर बारिश आ सकती है. ये मौसम विभाग की तरफ से अलर्ट जारी किया गया है. वहीं अगले दो दिनों तक इसी तरह बादल भी छाए रहेंगे।
गुरुग्राम में मंगलवार को 128 एम एम बारिश हुई थी. डिजास्टर मैनेजमेंट की माने तो गुरुग्राम प्रशासन को जो तैयारियां करनी थी वो नहीं की गई. जबकि उच्च अधिकारियों ने जो बैठक ली थी. जिसमें हरियाणा के सीएम को जानकारी दी थी कि बारिश के पानी की निकासी पूरी की गई है. उसमें साफ तौर पर कमी देखने को मिली. इतनी बारिश के पानी की निकासी के प्रबंध सही होते तो शायद जलभराव नहीं होता।
गुरूग्राम में हल्की सी बारिश होते ही शहर की रफ्तार रूक जाती हैं लेकिन अब बारिश के चलते गुरूग्राम की रफ्तार ना रूके इसके लिए गुरूग्राम ट्रैफिक पुलिस की तरफ से जाम से राहत दिलाने के लिए प्लान तैयार किया गया हैं ट्रैफिक पुलिस के तमाम जवानों की छुट्टियां अगले 3 दिनों के लिए रद्द कर दी गई हैं ..साथ ही ट्रैफिक के जवानों की दिन – रात ड्यूटियां लगाई गई हैं और ट्रैफिक के अधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया हैं इसमें जवानों की संख्या की बढोतरी भी कि गई हैं ताकि अगर गुरूग्राम में बारिश हो तो जाम से लोगों को राहत मिल सके।
गुरुग्राम में अगले दो दिनों तक दो मौसम बुलेटन जारी हुआ है. उसमें बारिश तेज नहीं आयेगी  लेकिन रुक रुक आने वाली बारिश भी प्रशासन की चिंता बढ़ा सकती है. इस लिए प्रशासन को अभी से ही पूरे प्रबंधन रखने चाहिए. पिछले कुछ सालों के आंकड़ों पर नजर डाले तो 2010 में सबसे ज्यादा बारिश गुरुग्राम में 162 एमएम हुई थी।
2016 में जो महा जाम की स्थित बनी थी. उस समय बारिश 110 एमएम से 140 एमएम तक हुई थी. लेकिन मंगलवार को हुई बारिश का आंकलन 128 एमएम लगाया है जिसके बाद गुरुग्राम में काफी जलभराव देखने को मिला जिससे जाम भी लगा।
फिलहाल मौसम विभाग के अलर्ट के बाद प्रशासन को दावों और वादों के बीच से निकलकर हकीकत में धरातल पर उतर कर काम करना चाहिए वरना प्रशासन की वजह से सरकार को एक बार फिर किरकिरी हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *