यूपी में नीलामी वाले खेतों की गेहूं बार-बार काट ले आते है हरियाणा के किसान

Breaking देश बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Shamli (U.P) (20 April 2018)

हरियाणा के किसान यूपी में जाकर अपना दम बार-बार दिखा रहे हैं। अबकी बार मामला ही कुछ और है। असल में यमुना खादर में विवादित भूमि पर खड़ी फसल का कुर्क कर यूपी के अधिकारियों ने विवाद को रोकने की कोशिश की। लेकिन गुरुवार दोपहर काफी संख्या में हरियाणा से दए किसानों ने कैराना तहसील प्रशासन की कुर्क की हुई फसल को काटकर ले गए। हरियाणा के किसानों की इस दबंगई से यूपी के अधिकारी भी हैरान हैं। उन्होंने हरियाणा के किसानों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट कैराना कोतवाली में दर्ज कराई है।

हुआ कुछ यूं के कैराना प्रशासन को हरियाणा के किसानों द्वारा नीलाम की गई गेहूं की फसल काटने की सूचना मिली थी। जब तक कैराना पुलिस-प्रशासनिक टीम पीएसी के साथ मौके पर पहुंचते तब तक हरियाणा के किसान अपना काम कर चुके थे। वे नीलाम की गई 72 बीघा गेहूं की फसल ट्रैक्टर-ट्रालियों में लादकर फरार हो गए थे। कैराना प्रशासन ने इस फसल को तहसील मुख्यालय पर बोली लगाकर 71 हजार रुपये में नीलाम किया था। जिसे गांव मवीं निवासी दिलशाद पुत्र इलियास ने खरीदा था।

तहसील मुख्यालय पर तैनात हलका लेखपाल मुकेश कुमार और दिनेश दूबे की ओर से हरियाणा के जनपद पानीपत के बापौली थानाक्षेत्र के गांव रिशपुर निवासी रविन्द्र, रामपाल, बलवान, सतीश, भोपाल, कृपाल, सुदेश, कंवर सिंह, लालू व सतीश पुत्र मांगा एवं गांव नन्हेड़ा निवासी भगत, सुरेश उर्फ काबा, प्रकाश, महीपाल, संसार व अनिल के खिलाफ फसल चोरी कर ले जाने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

हरियाणा के किसान ऐसी हरकत पहले भी कर चुके है। इससे पहले भी कैराना प्रशासन ने हरियाणा के किसानों द्वारा कब्जा की गई यूपी ग्राम समाज की लगभग 55 हेक्टेयर भूमि को कुर्क किया था। कुर्क की गई भूमि पर गेहूं की फसल खड़ी थी। हरियाणा के किसान 8 व 15 अप्रैल को लगभग 51 हेक्टेयर गेहूं की फसल जबरदस्ती काटकर ले गए थे।

यह भी पढ़ें-

हिसार में किसानों के धरने को 27 दिन हुए, लेकिन सरकार का ध्यान अब तक इस और नहीं गया

 

1 thought on “यूपी में नीलामी वाले खेतों की गेहूं बार-बार काट ले आते है हरियाणा के किसान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *