नहर में हो रहे हादसों का जिम्मेदार कौन?

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Naval singh, Yuva haryana

Tohana, 29 June 2019

जीवन अनमोल है। लेकिन कई बार मौज मस्ती या फिर छोटी- छोटी लापरवाही के कारण हम इसे खतरे में डाल देते है। ऐसा ही कुछ नहरों में नहाने वाले लोगों के साथ भी होता है। मौज मस्ती में नहाते नहाते कब उनकी जान पर बन आती है। उन्हें पता ही नहीं लगता और वह जान से हाथ धो बैठते है।

टोहाना नहर में नहाते समय इस तरह के हादसे रोज- रोज सामने आते है। लोगों को नहर से दूर रखने के लिए प्रशासन ने नहर में नहाने पर प्रतिबंध लगाया है। लेकिन यह सारे प्रयास नाकाम होते हुए नजर आ रहे है। नहर में प्रतिदिन बड़े और बच्चे छलांग लगाते है। उन्हें ना तो अपनी जान की परवाह है, और ना हीं प्रशासन का डर?

इसी तरह नहर में नहाते हुए जब एक बच्चे से बातचीत की गई तो उसने कहा कि ‘उसके पास जिगरा है। वह किसी भी नहर में तैर सकता है। उसे किसी का डर नहीं है क्योकिं नहर सरकारी है’। नहर में हो रहे हादसों का आकड़ा बढ़ रहा है। इस पर नहर विभाग के एसडीओ मनदीप सेलवाल ने बताया कि ‘नहर के पास चेतावनी बोर्ड लगाए गए है। कर्मचारी ड्यूटी पर है।

अगर रोकने के बाद भी कोई नहर में नहाते हुए पाया जाता है तो उसके खिलाफ शख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही उन्होनें लोगों से अपील करते हुए कहा कि नहर में नहाने वाले लोगों को रोका जाए ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचा जा सके’। नहर में किसी प्रकार की दुर्घटना होने पर समाज इसका दोष प्रशासन पर मड़ कर खुद का दामन बचाने का प्रयास करता है। लेकिन इन सब के बीच दोषी कौन हैं प्रशासन या समाज?

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *