गन्नौर में रेल कोच फैक्ट्री लगने का रास्ता साफ, हजारों युवाओं को मिलेगा रोजगार

Breaking Uncategorized बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana 

Chandigarh

एक लंबे इंतजार के बाद गन्नौर रेल कोच कारखाना लगने जा रहा है। जिसको लेकर HSIIDC ने तकनीकी बाधाएं दूर कर ली हैं। निगम द्वारा रेलवे को 99 साल की लीज पर 161.48 एकड़ जमीन दी जाएगी, जहां सालाना 500-700 रेल कोच नवीनीकृत किए जाएंगे और हजारों युवाओं के लिए रोजगार अवसर की संभावना पैदा होंगी। इसके लिए सरकार ने रेलवे मंत्रालय को जमीन का कब्जा देने की तैयारी कर ली है।


साल 2016 में तत्कालीन रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु ने इंवेस्टर मीट के दौरान बडी (गन्नौर) में रेल कोच नवीनकरण एवं पुनर्वास कारखाना स्थापित करने की घोषणा की गई थी। इसके बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि सभी तकनीकी बिंदुओं पर रेलवे मंत्रालय के साथ आपसी सहमति तैयार कर ली जाए, ताकि भविष्य में इस संबंध में कोई बाधा न आए। इसके बाद अधिकारियों ने रेलवे मंत्रालय के साथ रेलवे कोच कारखाना स्थापित करने के लिए औद्योगिक क्षेत्र बडी में लीज की अवधि बढ़ाते हुए 99 साल करते हुए 161 एकड़ जमीन देने का खाका तैयार किया गया है।


इसमें प्रतिवर्ष 1000 रूपए प्रति एकड़ लीज किराया तय किया जाएगा। रेलवे को जमीन देने होने के बाद पांच साल के अंदर निर्माण शुरू करना होगा। इस प्रोजेक्ट में तैयार होने वाले सभी भवन हरियाणा बिल्डिंग कोड के अनुरूप ही तैयार करने होंगे, वहीं पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए सरकार की नीति के अनुसार ही टयूबवैल स्थापित किए जा सकेंगे।

यही नहीं रेल कोच कारखाना क्षेत्र में निर्माण होने वाली सड़के, पेयजलापूर्ति, गंदे पानी की निकासी, संपर्क मार्ग, बिजली, ढांचागत विकास की रखरखाव के लिए HSIIDC को सालाना भुगतान करना होगा।


बता दें कि 600 करोड़ रुपए की लागत से रेल कोच नवीकरण व पुनर्वास कारखाने की स्थापना में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से हजारों युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा होने के साथ-साथ आर्थिक विकास को और अधिक गति मिलेगी। परियोजना से कई सहायक इकाइयों, छोटे और मध्यम उद्यमों को स्थापित होने में मदद मिलेगी।

Read This Also

सफाई कर्मियों की सुरक्षा के लिए, सरकार करेगी रोबोटिक मशीन की व्यवस्था: डॉ. बनवारी लाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *