बहुद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारियों ने हड़ताल के दसवें दिन मुंडन करवाकर सरकार के खिलाफ किया रोष प्रदर्शन

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Panchkula, 5 Sep, 2018

सरकार के तानाशाही हथकंडों के जवाब में बहुद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन ने आज बेमियादी हड़ताल के दसवें दिन आंदोलन को ज़्यादा तीखा करते हुए सरकार के खिलाफ मुंडन करवाकर रोष प्रकट किया। इसके साथ ही सरकार के लिए श्राद्ध की रस्म अदा की और चेताया कि एसोसिएशन सरकार की एस्मा,बर्खास्तगी,एफआईआर जैसी दमनकारी नीतियों से डरने वाली नही है।

जिसका प्रमाण आज एसोसिएशन के 95% सदस्यों ने हड़ताल में शामिल होकर दिया। एसोसिएशन ऐसी धमकियों से डरने वाली नहीं है। सरकार झूठ बोलकर आम जनता और कर्मचारियों को बरगलाना चाहती है।

स्वास्थ्य मंत्री महोदय द्वारा मांगों को माने जाने बयान बिलकुल झूठ है। तीन साल से लंबित मानी गई मांगों को लागू करवाने के लिए प्रत्येक प्रकार के लोकतांत्रिक तरीके से सरकार से मांगें पूरी करने के लिए प्रदर्शन किया, परंतु सरकार ने हर बार झूठे आश्वासन देकर एसोसिएशन के साथ विश्वासघात किया।

बाध्य होकर एसोसिएशन ने हड़ताल जैसा बड़ा फैसला किया। प्रदर्शन की अध्यक्षता ज़िला प्रधान अनिल गोयत और संचालन सचिव बजरंग सोनी ने की। धरने में पहुंची राज्य प्रधान ओमपति कादयान ने बताया कि मांगों की लागू करने की अधिसूचना जारी होने तक हड़ताल किसी भी तरह वापिस नहीं लेंगे, चाहे कर्मचारियों को जेल में ही क्यों ना जाना पड़े।

रोषित कर्मचारियों ने आज मुंडन करवाया। बेमियादी हड़ताल पर होने के कारण ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में आज बुधवार को शिशुओं का टीकाकरण और अन्य राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम ठप्प पड़े रहे। अनिल गोयत ने बताया कि सरकार की नीति और नियति में खोट है जिसके कारण वो मानी गई मांगों की अधिसूचना जारी करने में आनाकानी कर जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रही है।

सरकार जनता की हितैषी है तो कर्मचारियों की जायज़ मांगों को पूरा कर सकारात्मक रूख अपनायें। आगामी कार्यक्रम के तहत कल 6 सितम्बर को सर्व कर्मचारी संघ से संबंधित विभागीय संगठन के सैंकड़ों कर्मचारी जिदल पार्क में एकत्रित होकर एसोसिएशन को समर्थन देने धरना स्थल पर पहुंचेंगे।

हड़ताल के दसवें दिन भी सरकार द्वारा मांगों को लागू करने की दिशा में कोई कार्यवाही ना कर स्वास्थ्य मंत्री महोदय अनाप- शनाप बयानबाज़ी कर रहे हैं। एसोसिएशन के प्रवक्ता नूर मोहमद ने बताया कि मलेरिया,डेंगू के केस लगातार बढ़ रहे हैं, किंतु सरकार कर्मचारियों की मांगों को दबाने की नाकाम चेष्टा कर जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रही है।

सभी राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम शिशुओं और गर्भवतियों का टीकाकरण, मलेरिया,डेंगू,चिकनगुनिया,टीबी,गर्भवती महिलाओं का चेकअप,जन्म-मृत्यु पंजीकरण सेवाएं,प्रसव पूर्व-उपरांत देखभाल,मच्छर जनित बीमारियों मलेरिया,डेंगू,चिकनगुनिया के इलाज,रोकथाम और जागरुकता अभियान,पानी की शुद्धता की जांच,एंटी-लारवा की सेवाएं प्रभावित हो रही हैं।

सरकार को चाहिए कि मांगों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए कर्मचारियों की मांगों की अधिसूचना जारी करें।

यह हैं मांगे-
1) बहुद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी वर्ग को तकनीकी घोषित किया जाए।
2) बहुद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन के महिला और पुरुष कर्मियों को वेतनमान 9300-34800 ग्रेड पे 4200₹ सातवें वेतनमान आयोग में लेवल 6 लागू करने की अधिसूचना जारी की जाए।
3) आरसीएच परियोजना में कार्यरत अनुबंधित महिला कर्मियो को 2 साल की सेवा उपरांत नियमित किया जाए,नियमित होने तक माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्णयानुसार समान काम समान वेतनमान लागू किया जाए।
4) एमपीएचडब्ल्यू पुरुष कर्मियों का वर्दी भत्ता,एफटीए बढ़ोतरी की अधिसूचना जारी की जाए।
5) आरसीएच परियोजना में कार्यरत एमपीएचडब्ल्यू महिला कर्मियो को एफटीए और वर्दी भत्ता दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *