बिजली विभाग की एक और बड़ी लापरवाही, एक घर में भेजा 77 लाख रूपये का बिजली का बिल

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Bahadurgarh, 4 May, 2019

बिजली निगम की ओर से गलत बिल भेजने का एक और मामला सामने आया है। इस बार बहादुरगढ़ के विजय नगर के रहने वाले सुरेश शर्मा के रिहायशी मकान का 77 लाख रुपए का बिल भेजा गया है। जिसे ठीक करवाने के लिए उनका पूरा परिवार बिजली विभाग के दफ्तर के चक्कर काटने को मजबूर है। सीएम विंडो पर शिकायत देने के बावजूद भी समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ।

दरअसल, बहादुरगढ़ के विजयनगर निवासी सुरेश शर्मा के रिहायशी मकान में उनकी पत्नी पिंकी शर्मा के नाम से मीटर लगाया गया है। सुरेश शर्मा के बेटे प्रतीक ने बताया कि उनका हर बार बिजली बिल औसतन 3 से 4 हजार रुपए के आसपास ही आता था, लेकिन इस बार बिजली निगम ने उन्हें 77 लाख 18 हजार 342 रुपए बिल भेजा है।

उन्होंनेे बताया कि 6 दिसंबर 2018 को बिजली निगम से जो बिल मिला था, उसमें 24060 रीडिंग तक के बिल का भुगतान कर दिया था। इसके बाद उन्होंने 8 दिसंबर को थ्री फेस कनेक्शन सिंगल फेस में बदलवाते हुए 6 किलोवाट से 4 किलोवाट लोड करवा लिया था। फिर बिजली निगम ने मीटर बदल दिया था और 9 मार्च 2019 को 681 यूनिट का प्रोविजनल बिल उन्हें थमा दिया।

यह बिल ठीक कराने के लिए कई दिनों से बिजली निगम दफ्तर के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। शिकायत के बावजूद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने विभाग के अधिकारियों से लेकर सीएम विंडो तक इसकी शिकायत की। लेकिन 2 मई 2019 को स्पॉट बिलिंग के तहत उन्हें 77,18,342 रुपए का बिल पकड़ा दिया गया।

उनके अनुसार पिछले मीटर की 74 व वर्तमान मीटर की 1232 यूनिट के अनुसार उनका बिल आना चाहिए था। लेकिन निगम ने 9 लाख 99 हजार 820 यूनिट के एवज में करीब 77 लाख रुपए का बिल जनरेट कर उनके लिए नई मुसीबत खड़ी कर दी है।

सुरेश शर्मा हार्ट के पेशेंट हैं और उनका कहना है इतना ज्यादा बिल देखकर उन्हें हार्ट अटैक आते-आते बचा है। उन्होंने निगम के अधिकारियों से इस मामले में कार्रवाई की मांग की है। वहीं बिजली विभाग के एक्सइएन राजपाल का कहना है कि उन्हें अभी इस मामले का पता चला है। जल्द ही पीड़ित का बिजली का बिल ठीक करवा दिया जाएगा और गलत बिल देने वाले कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *