हरपथ एप पर आई शिकायत को गंभीरता से ना लेना पड़ा भारी, XEN और नोडल अधिकारी सस्पैंड, कई अफसरों को नोटिस जारी

Breaking Uncategorized चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 05 July, 2018
हरपथ पर प्राप्त टूटी सडक़ों या सडक़ों पर गड्ढ़ों की शिकायतों को गम्भीरता से न लेने पर कड़ा संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग (भवन व सडक़ें) रेवाड़ी के कार्यकारी अभियन्ता वी.एस.मलिक और नगरनिगम, रोहतक में हरपथ के नोडल अधिकारी एवं पालिका अभियन्ता राम प्रकाश को तुरंत प्रभाव से निलम्बित करने के निर्देश दिए हैं।
मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव, डॉ० राकेश गुप्ता ने बताया कि लोक निर्माण विभाग (भवन व सड़कें) रेवाड़ी के कार्यकारी अभियन्ता वी.एस. मलिक के खिलाफ कई शिकायतें थीं। उनको सात दिन का समय दिया गया था लेकिन इस दौरान उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। इसी प्रकार, नगरनिगम, रोहतक में हरपथ के नोडल अधिकारी एवं पालिका अभियन्ता राम प्रकाश के खिलाफ भी काफी शिकायतें थी, जिनका वे संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। 
हरपथ पर प्राप्त शिकायतों को गम्भीरता से न लेने पर नगरनिगम, फरीदाबाद के मुख्य अभियन्ता डी.आर.भास्कर, नारनौल के पालिका अभियन्ता दर्शन कुमार, हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड, गुरुग्राम के कार्यकारी अभियन्ता सुरेश लाठर तथा रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़, जींद और मेवात जिलों में हरपथ का कार्य देखने वाले मुख्य अभियंताओं को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए हैं।  
उन्होंने बताया कि हरपथ एप पर मिलने वाली शिकायतों के निपटान में किसी भी प्रकार की लापरवाही को हरगिज बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और जो भी अभियंता इसको ढिलाई बरत रहे हैं, उन पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। सम्बन्धित अधिकारियों को टाल-मटोल का रवैया छोडक़र इन शिकायतों का समाधान निर्धारित समय सीमा के भीतर करना होगा। 
इस एप के माध्यम से प्राप्त होने वाली शिकायत को दूर करने के लिए सरकार द्वारा 10 दिन का समय निर्धारित किया गया है। पहले इस एप के माध्यम से टूटी सडक़ की शिकायत दूर करने के लिए 15 दिन का समय निर्धारित किया गया था। उन्होंने बताया कि हरपथ पर अब तक 18 लाख शिकायतें प्राप्त हुई हैं, जिनमें से ज्यादातर का समाधान सफलतापूर्वक किया गया है। उन्होंने बताया कि एचएसआईआईडीसी और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग के अंतर्गत आने वाली सडक़ों को भी शीघ्र ही हरपथ के अंतर्गत शामिल किया जाएगा। इसके अलावा, लोक निर्माण विभाग के अनुबंधों की भी अगले साल तक हरपथ के माध्यम से निगरानी की जाएगी। 
उन्होंने बताया कि कोई भी व्यक्ति गूगल प्ले स्टोर से अपने मोबाइल पर हरपथ एप डाउनलोड कर सकता है। यह एप एंड्रॉयड तथा आईफोन, दोनों पर डाउनलोड की जा सकती है। इस मोबाइल एप की खास बात यह है कि इसमें प्रदेश की सभी सडक़ों की जियो टैंगिंग की गई है। इस मोबाइल एप को डाउनलोड करने के बाद आप स्वयं को इस पर रजिस्टर करें। इसके उपरंात आप जब भी सडक़ के गड्ढ़े की फोटो खींचकर हरपथ एप में डालें, उस  समय आपके मोबाइल पर जीपीएस ऑन रहना चाहिए। इस एप पर आप अपनी शिकायत का स्टेटस भी देख सकते  हैं।  शिकायत का समाधान होने उपरंात उसके स्टेटस में इसकी सूचना आपको दी जाएगी।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *