पूर्व विधायक की पौत्र वधू की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, पूर्व पार्षद समेत चार पर दहेज प्रताड़ना का आरोप

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Yamunanagar, 24 Feb,2019

पूर्व विधायक रामप्रसाद की पौत्र वधू सुलेखा की अपने घर पर संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। बताया जा रहा है कि मृतका सुलेखा रात को करीब साढ़े 11 बजे खाना खाकर अपने कमरे में सोने चली गई थी। सुबह जब नहीं उठी, तो परिजन उसे शहर के गाबा अस्पताल में ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसकी सूचना थाना शहर यमुनानगर पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया।

वहीं जानकारी मिलते ही मृतका पिता व अन्य परिजन यमुनानगर पहुंचे। उन्होंने अस्पताल परिसर में हंगामा किया और ससुरालवालों को भला-बुरा कहा। परिजनों का आरोप था कि सुलेखा के ससुराल वाले उसे प्रताड़ित करते थे। इन्होंने ही उनकी बेटी को मारा है।

मृतका के पिता की शिकायत पर सिटी थाना पुलिस ने पति समेत चार के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

गांव बिंजल निवासी 30 वर्षीय सुलेखा उर्फ महक की शादी 2012 में महावीर कॉलोनी निवासी रविकांत के साथ हुई थी। सुलेखा जगाधरी प्राइवेट अस्पताल में नौकरी करती थी। जबकि उसका पति रविकांत गाड़ियों की फाइनेंस करने वाली कंपनी में काम करता था। सुलेखा शाम को करीब साढ़े 6 बजे घर पर आई और रात को साढ़े 11 बजे खाना खाकर अपने कमरे में सोने चली गई। सुबह जब नहीं उठी, तो परिजन उसे शहर के गाबा अस्पताल में ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृतका के पिता जयप्रकाश व मां केला का आरोप है कि उन्होंने सुलेखा की शादी में जरूरत का सारा सामान दिया था। जिससे उसके ससुराल वाले संतुष्ट नहीं थे। कई बार उन्होंने बेटी के कहने पर ससुराल वालों की डिमांड को पूरा भी किया, फिर वे सुलेखा को दहेज के लिए तंग करते रहते थे। कई बार उनकी बेटी के लिए मारपीट भी की गई। यहां तक कई बार ससुराल वालों को समझाया भी गया। लेकिन फिर वे उससे प्रताड़ित करते रहते थे। आरोप है कि ससुराल पक्ष के लोगों ने दहेज के कारण बेटी को प्रताड़ित करके मार दिया।

मृतका के ससुर पूर्व पार्षद प्रदीप कुमार का कहना है कि उनके परिवार पर जो आरोप लगाए गए हैं वह गलत हैं और हम हर जांच के लिए तैयार हैं। सुलेखा करीब साढ़े 6 बजे ड्यूटी से आई और रात को सब ठीक था और घर में किसी प्रकार का कोई झगड़ा नहीं हुआ। करीब साढ़े 11 बजे उसका बेटा रविकांत व सुलेखा सोने के लिए अपने कमरे में चले गए। सुबह जब वह नहीं उठी, तो रविकांत ने परिजनों को बताया। जिसके बाद वह उसे अस्पताल में लेकर गए। लेकिन यहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

यमुनानगर थाना के सिटी एसएचओ नवीन सिंधु ने बताया कि मृतका के पिता की शिकायत पर उसके ससुर प्रदीप कुमार, पति रविकांत, देवर ललित व सास सुनीला देवी के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। मामले की जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चल सकेगा कि उसकी मौत की असल वजह क्या रहा। उसके बाद ही आगे की कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *