11.1 C
Haryana
Saturday, January 23, 2021

कृषि कानूनों को लेकर SC की बनाई हुई कमेटी से क्यों अलग हुए भूपिंदर सिंह मान, जानिए वजह ?

Must read

हरियाणा में 52 साल बाद पोते ने लिया दादा की हत्या का बदला, दिल दहला देगी ये वारदात

Yuva Haryana, 22 January, 2021 हरियाणा के रोहतक के गांव मकड़ौली कलां में एक खौफनाक वारदात सामने आई है। जिसमें 52 साल पहले हुई दादा...

हरियाणा के 5 जिलों में आज कोरोना के 0 केस, रिकवरी रेट 98 फीसदी, देखिए मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 22 January, 2021 हरियाणा में कोरोना महामारी के खिलाफ 16 जनवरी से टीकाकरण का अभियान जारी हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग की तरफ से...

11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा, सरकार ने किसानों से कहा- इससे बेहतर कुछ नहीं कर सकते

Yuva Haryana, 22 January, 2021 किसानों और सरकार के बीच आज 11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा खत्म हो गई है। दिल्ली के विज्ञान भवन...

Paytm दे रहा है मुफ्त LPG गैस सिलेंडर, ऐसे उठाएं ऑफर का फायदा, जानिए बुक करने का तरीका

Yuva Haryana, 22 January, 2021 रसोई गैस सिलेंडर की कीमत इन दिनों 692 रुपये के करीब चल रही है। अगर आप चाहें तो आपको गैस...

Share this News
10Shares

Yuva Haryana, 14 January, 2021

कृषि कानूनों को लेकर किसानों का पिछले 50 दिनों से आंदोलन जारी है। इसी बीच मुद्दे को हल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई कमेटी से भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह मान ने अपना नाम वापस ले लिया है। दरअसल कमेटी में भूपिंदर मान के नाम पर शुरुआत से ही बवाल हो रहा था। किसान नेताओं का कहना था कि मान पहले ही तीनों नए कृषि कानूनों का समर्थन कर चुके हैं।

भूपिंदर सिंह मान ने पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी। मान ने इस कमेटी में उन्हें शामिल करने के लिए शीर्ष अदालत का आभार जताया। पत्र में उन्होंने लिखा है कि वे हमेशा पंजाब और किसानों के साथ खड़े हैं। एक किसान और संगठन का नेता होने के नाते वह किसानों की भावना जानते हैं। वह किसानों और पंजाब के प्रति वफादार हैं। किसानों के हितों से कभी कोई समझौता नहीं कर सकता। वह इसके लिए कितने भी बड़े पद या सम्मान की बलि दे सकते हैं। मान ने पत्र में लिखा कि वह कोर्ट की ओर से दी गई जिम्मेदारी नहीं निभा सकते, अतः वह खुद को इस कमेटी से अलग करते हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगाते हुए चार सदस्यों की कमेटी बनाई थी। इस कमेटी में BKU के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह मान, शेतकारी संगठन (महाराष्ट्र) के अध्यक्ष अनिल घनवत, अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति शोध संस्थान दक्षिण एशिया के निदेशक प्रमोद कुमार जोशी और कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी शामिल हैं। इस कमेटी पर किसान संगठन और विपक्ष ने सवाल उठाए थे। कांग्रेस का कहना है कि कमेटी में शामिल 4 लोगों ने सार्वजनिक तौर पर पहले से ही निर्णय कर रखा है कि ये काले कानून सही हैं और कह दिया है कि किसान भटके हुए हैं। ऐसी कमेटी किसानों के साथ न्याय कैसे करेगी?

कौन हैं भूपेंद्र सिंह मान ?

15 सितंबर 1939 को गुजरांवाला (अब पाकिस्तान में) में पैदा हुए सरदार भूपिंदर सिंह मान को किसानों के संघर्ष में योगदान के लिए भारत के माननीय राष्ट्रपति द्वारा 1990 में राज्यसभा में नामांकित किया गया था। उन्होंने 1990-1996 तक सेवा की। उनके पिता एस अनूप सिंह इलाके के एक प्रमुख जमींदार थे।


Share this News
10Shares

More articles

Latest article

हरियाणा में 52 साल बाद पोते ने लिया दादा की हत्या का बदला, दिल दहला देगी ये वारदात

Yuva Haryana, 22 January, 2021 हरियाणा के रोहतक के गांव मकड़ौली कलां में एक खौफनाक वारदात सामने आई है। जिसमें 52 साल पहले हुई दादा...

हरियाणा के 5 जिलों में आज कोरोना के 0 केस, रिकवरी रेट 98 फीसदी, देखिए मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 22 January, 2021 हरियाणा में कोरोना महामारी के खिलाफ 16 जनवरी से टीकाकरण का अभियान जारी हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग की तरफ से...

11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा, सरकार ने किसानों से कहा- इससे बेहतर कुछ नहीं कर सकते

Yuva Haryana, 22 January, 2021 किसानों और सरकार के बीच आज 11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा खत्म हो गई है। दिल्ली के विज्ञान भवन...

Paytm दे रहा है मुफ्त LPG गैस सिलेंडर, ऐसे उठाएं ऑफर का फायदा, जानिए बुक करने का तरीका

Yuva Haryana, 22 January, 2021 रसोई गैस सिलेंडर की कीमत इन दिनों 692 रुपये के करीब चल रही है। अगर आप चाहें तो आपको गैस...

वार्डबंदी अभी पूरी नहीं…कैसे होंगे पंचायती चुनाव, डिप्टी सीएम ने कहीं ये बात

Yuva Haryana, 22 January, 2021 प्रदेश में पंचायती राज संस्थाओं का कार्यकाल 24 फरवरी को पूरा हो जाएगा। ऐसे में चुनाव की तैयारियां चल रही...