27.5 C
Haryana
Saturday, December 5, 2020

भाजपा के इस पूर्व विधायक ने पार्टी को कहा अलविदा, कृषि कानून के विरोध में उठाया कदम

Must read

किसानों की आज फिर होगी सरकार के साथ 5वें दौर की वार्ता, 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान

Yuva Haryana, 05 December, 2020 कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर जमे किसान संगठनों और सरकार के बीच आज पांचवें दौर की बातचीत होगी।...

80 साल की बुजुर्ग सास को घर से निकालने वाली बहू गिरफ्तार, जानें क्या है पूरा मामला

Yuva Haryana, 05 December, 2020 हिसार में एक कलयुगी बहू ने अपनी 80 साल की सास को घऱ से बाहर निकाल दिया। इतना ही नहीं...

हरियाणा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री Anil Vij कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

Yuva Haryana, 05 December, 2020 हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी...

किसानों के लिए चौधरी देवीलाल ने प्रधानमंत्री का पद छोड़ा मेरे लिए विधायकी कोई बड़ी बात नहीं: अभय चौटाला

Yuva Haryana, 04 December, 2020 मैं स्वयं धरना स्थलों पर जाकर आंदोलन का संचालन करने वालेे किसान संगठन के नेताओं से मिलूंगा और समर्थन देने...

Share this News
100Shares

Yuva Haryana News

Chandigarh, 20 Oct, 2020

बरोदा उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगातार झटके पर झटके लग रहे हैं। आज बीजेपी नेता परमिंद्र ढुल ने पार्टी को अलविदा कह दिया है। परमिंद्र ढुल ने किसानों के तीन कृषि कानूनों को लेकर बीजेपी को छोड़ा है।

परमिंद्र ढुल ने केंद्र के तीनों कृषि कानूनों को काले कानून बताया है। किसानों को पूंजीपतियों के हाथ मे सौंपने की तैयारी है। उन्होंने बीजेपी- जेजेपी पर वायदा खिलाफ के आरोप लगाये हैं।

ढुल ने 2020 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने के बीजेपी के वायदे को झूठा बताया है। उन्होंने कहा कि आज दीनबंधु सर छोटू राम की आत्मा भी दुखी होगी क्योंकि आज किसान पुत्र रो रहा है , मैं बीजेपी में घुटन महसूस कर रहा हूं, इसलिए पार्टी छोड़ रहा हूं।

परमिंद्र ढुल ने सभी पार्टियों में शामिल किसान पुत्रों को किसान के हित मे आने का किया आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि पार्टियों को छोड़कर आज किसान के साथ खड़े होने का वक्त है। अब आगामी लड़ाई किसानों के साथ मिलकर लड़ेंगे।

किसी अन्य पार्टी में जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि आज मैं किसान के साथ खड़ा हू। अभी कही जाने का फैसला नहीं है। बीजेपी ने किसानों के मुद्दे पर जुमलों पर बात की है। बीजेपी को चौथा कानून लाना चाहिए था जिसमें MSP का कानून शामिल होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने पिछले समय मे खूब विदेश यात्राएं की , ये यात्राएं केवल किसान को पूंजीपतियों के हाथ मे सौपने के लिए की है, उन्होंने विदेशो में देखा किसान को कैसे पूंजीपतियों के हाथ मे सौपा जाए, बीजेपी के नेताओं को ओपन प्लेटफार्म पर आकर इन कानूनों पर बहस करनी चाहिए, ढुल ने कहा कि अगला फैसला जल्द ही लेंगे।


Share this News
100Shares

More articles

Latest article

किसानों की आज फिर होगी सरकार के साथ 5वें दौर की वार्ता, 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान

Yuva Haryana, 05 December, 2020 कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर जमे किसान संगठनों और सरकार के बीच आज पांचवें दौर की बातचीत होगी।...

80 साल की बुजुर्ग सास को घर से निकालने वाली बहू गिरफ्तार, जानें क्या है पूरा मामला

Yuva Haryana, 05 December, 2020 हिसार में एक कलयुगी बहू ने अपनी 80 साल की सास को घऱ से बाहर निकाल दिया। इतना ही नहीं...

हरियाणा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री Anil Vij कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

Yuva Haryana, 05 December, 2020 हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी...

किसानों के लिए चौधरी देवीलाल ने प्रधानमंत्री का पद छोड़ा मेरे लिए विधायकी कोई बड़ी बात नहीं: अभय चौटाला

Yuva Haryana, 04 December, 2020 मैं स्वयं धरना स्थलों पर जाकर आंदोलन का संचालन करने वालेे किसान संगठन के नेताओं से मिलूंगा और समर्थन देने...

हरियाणा सरकार ने IAS Sunil Gulati को Special Chief Secretary किया नियुक्त, देखें आदेश

Yuva Haryana, 04 December, 2020 हरियाणा सरकार ने आईएएस अधिकारी सुनील कुमार गुलाटी को तुरंत प्रभाव से हरियाणा सरकार के विशेष मुख्य सचिव के रूप...