21.7 C
Haryana
Friday, December 4, 2020

किसानों के भुगतान को लेकर सीएम मनोहर लाल के बड़े आदेश, अधिकारियों की बैठक कर जायजा लिया

Must read

HTET के आवेदन के लिए आगे बढ़ी तारीख, 10 दिसंबर तक कर सकते हैं आवेदन

Yuva Haryana, 04 December, 2020 हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी की तरफ से राज्य में पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन की तारीखों को आगे बढ़ा...

BJP ने नगर पालिका चुनाव के लिए प्रभारी और सह-प्रभारी किए नियुक्त, देखिए लिस्ट

Yuva Haryana, 04 December, 2020 भाजपा ने नगर पालिका चुनाव के लिए प्रभारी और सह-प्रभारी नियुक्त किए हैं। हरियाणा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनकड़ ने...

कोरोनाकाल में हुई अनोखी शादी, दूल्हा-दुल्हन ने किया 2 गज दूरी का पालन

Yuva Haryana, 04 December, 2020 गर्मियों में लोगों ने शादियां यह सोच कर टाल दी कि शायद सर्दियों तक कोरोना खत्म हो जाएगा। लेकिन अब...

किसान आंदोलन में एक और किसान की मौत, अब तक छह अन्नदाताओं ने गंवाई जान

Yuva Haryana, 04 December, 2020 केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए कृषि कानूनों का विरोध लगातार जारी है। वहीं किसान आंदोलन शामिल 55 वर्षीय  किसान...

Share this News
48Shares

Yuva Haryana News

Chandigarh, 5 Nov, 2020

हरियाणा के मुख्यमन्त्री मनोहर लाल ने खरीफ फसलों की खरीद में लगे अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि किसान को भुगतान सात दिनों की निर्धारित अवधि में हर हाल में करना है। खरीद एजेंसी, आढ़तियों व बैंकर्स की तरफ से भुगतान में किसी प्रकार का विलम्ब कतई बर्दाश्त नहीं होगा। ‘जे फार्म व आई फार्म’ का मिलान खरीद प्रक्रिया का आंतरिक मामला है। उनका मिलान बाद में किया जा सकता है, लेकिन किसान का भुगतान सबसे पहले होना जरूरी है। दीवाली से पहले-पहले कोई भी भुगतान लम्बित नहीं रहना चाहिए।

दरअसल, मुख्यमंत्री ने धान खरीद प्रक्रिया से जुड़े विभागों के अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। इस, दौरान उन्होंने ये आदेश दिए हैं। बैठक में मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि 15 अक्तूबर से पहले का जितना भी भुगतान लम्बित है, उसे तत्काल जारी किया जाए। जिन किसानों को टोकन 14 नवम्बर को दीपावली के दिन जारी किए जा चुके हैं, उनकी वैधता 16, 17 व 18 नवम्बर तक बनी रहनी चाहिए। किसानों को नए सिरे से टोकन देने की जरूरत नहीं होगी।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि मुख्यालय स्तर के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि धान खरीद के लिए ‘एच फार्म से लेकर जे फार्म, गेट पास, आई फार्म’ के सृजन होने से लेकर मंडी से वेयरहाउस तक उठान तथा आई फार्म की स्वीकृति प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि एच फार्म जारी होने के एक सप्ताह के अंदर-अंदर या आई फार्म स्वीकृत होने के 72 घंटों में किसान को उसकी खरीद की अदायगी हर हालत में हो जाए।

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए कि खरीद प्रक्रिया से जुड़ा कोई एक अधिकारी या कर्मचारी भी लापरवाही बरतता है तो पूरी प्रक्रिया डगमगा जाती है। उन्होंने कहा कि मंडी बोर्ड के सचिव से लेकर आढ़ती, मिलर, ट्रांसपोर्टर हर किसी की जिम्मेवारी तय की जानी चाहिए। प्रत्येक मंडी से जुड़ी हर राइस मिल को एक समानुपात में स्टॉक का आवंटन होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी प्रक्रिया का एक चार्ट मंडीवार, किसानवार और आढ़तीवार  तैयार किया जाना चाहिए और इसे वैबसाइट पर अपलोड किया जाए ताकि कोई भी व्यक्ति इसका अवलोकन कर सके। विशेषकर, किसान को इस बात की जानकारी हो सके कि किस दिन उसका ‘एच-फार्म’ जारी हुआ है और उसी के अनुसार वह मंडी में आए। उन्होंने कहा कि वे स्वयं चण्डीगढ़ से डेशबोर्ड पर पूरी खरीद प्रक्रिया की जानकारी निरन्तर लेते रहेंगे।

बैठक में खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग द्वारा अवगत करवाया गया कि पहले खरीद प्रक्रिया ऑफलाइन थी अब इसे ऑनलाइन कर दिया गया है। हर प्रकार की जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध रहेगी कि किस दिन एच फार्म, जे फार्म, गेट पास व आई फार्म जारी हुआ। किस दिन जिला प्रबंधक या बैंकर्स को ऑनलाइन भुगतान के लिए पे-नाउ का बटन क्लिक करना होगा।

बैठक में इस बात की जानकारी दी गई कि इस वर्ष खरीफ फसलों की लगभग 38 लाख एकड़ क्षेत्र में धान, 18 लाख एकड़ क्षेत्र में कपास, 12 लाख एकड़ क्षेत्र में बाजरा, 2.40 लाख एकड़ क्षेत्र में गन्ना की बिजाई किए जाने का अनुमान है।

बैठक में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे पी दलाल, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी एस ढेसी, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पी.के. दास, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री देवेन्द्र सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी.उमाशंकर, उप-अतिरिक्त प्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़, हैफेड के प्रबंध निदेशक श्री डी.के.बेहरा, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के निदेशक श्री चन्द्र शेखर खरे, हरियाणा भण्डारण निगम के प्रबंध निदेशक  श्री राजीव रतन तथा हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड की मुख्य प्रशासक श्रीमती सुमेधा कटारिया भी उपस्थित थी।

 

 


Share this News
48Shares

More articles

Latest article

HTET के आवेदन के लिए आगे बढ़ी तारीख, 10 दिसंबर तक कर सकते हैं आवेदन

Yuva Haryana, 04 December, 2020 हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी की तरफ से राज्य में पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन की तारीखों को आगे बढ़ा...

BJP ने नगर पालिका चुनाव के लिए प्रभारी और सह-प्रभारी किए नियुक्त, देखिए लिस्ट

Yuva Haryana, 04 December, 2020 भाजपा ने नगर पालिका चुनाव के लिए प्रभारी और सह-प्रभारी नियुक्त किए हैं। हरियाणा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनकड़ ने...

कोरोनाकाल में हुई अनोखी शादी, दूल्हा-दुल्हन ने किया 2 गज दूरी का पालन

Yuva Haryana, 04 December, 2020 गर्मियों में लोगों ने शादियां यह सोच कर टाल दी कि शायद सर्दियों तक कोरोना खत्म हो जाएगा। लेकिन अब...

किसान आंदोलन में एक और किसान की मौत, अब तक छह अन्नदाताओं ने गंवाई जान

Yuva Haryana, 04 December, 2020 केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए कृषि कानूनों का विरोध लगातार जारी है। वहीं किसान आंदोलन शामिल 55 वर्षीय  किसान...

हरियाणा कांग्रेस ने नगर निगम चुनाव के लिए इन नेताओं को सौंपी जिम्मेदारी, देखें लिस्ट

Yuva Haryana, 04 December, 2020 हरियाणा में कांग्रेस पार्टी ने नगर निगम चुनाव के लिए कमर कस ली है। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने गुरुवार...