Home कला-संस्कृति दुश्मन को भी गले लगाना, ऐसी होली मनाना

दुश्मन को भी गले लगाना, ऐसी होली मनाना

0
0Shares

कुछ ऐसी होली तुम मनाना।

दुश्मनों को भी गले लगाना।

 

रंग प्यार का घोल कर।

प्रेम के बोल बोल कर।

सभी का मन तुम हर्षाना।

कुछ ऐसी होली तुम मनाना।

दुश्मनों को भी गले लगाना।

 

गिरा देना नफरत की दीवार।

करना सिर्फ प्रेम की बौछार।

दिल से दिल को मिलाना।

कुछ ऐसी होली तुम मनाना।

दुश्मनों को भी गले लगाना।

 

अपने रीति रिवाज के साथ।

थोड़ी शर्म लिहाज के साथ।

रंग गुलाल सभी को लगाना।

कुछ ऐसी होली तुम मनाना।

दुश्मनों को भी गले लगाना।

पीकर शराब प्याला और भंग।

करना नहीं तुम ज्यादा हुड़दंग।

सुलक्षणा का फर्ज था समझाना।

कुछ ऐसी होली तुम मनाना।

दुश्मनों को भी गले लगाना।

 

  – डॉ सुलक्षणा, अंग्रेजी प्रवक्ता, मेवात

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In कला-संस्कृति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में किसानों-रेहड़ी वालों को बड़ी राहत, जानिये क्या-क्या फैसले लिए गए ?

Yuva Haryana, Chandigarh दिल्ली में …