Home Breaking हरियाणा में ई- गिरदावरी होगी अनिवार्य, 5 बजे के बाद जमीन की नहीं होगी रजिस्ट्री

हरियाणा में ई- गिरदावरी होगी अनिवार्य, 5 बजे के बाद जमीन की नहीं होगी रजिस्ट्री

0

Yuva Haryana

Chandigarh, 23 June, 2019

हरियाणा राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने कहा कि प्रदेश में जल्द ही ई -गिरदावरी को अनिवार्य किया जाएगा।

यह जानकारी उन्होंने आज गुरुग्राम में राजस्व अधिकारियों के साथ हुई बैठक के दौरान दी। इस बैठक में अरोड़ा ने राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि कार्यालय समय अर्थात शाम 5 बजे के बाद कोई भी रजिस्ट्री ना करें और अपना काम पूरी ईमानदारी के साथ करें।

इस बैठक में उन्होंने जमाबंदी को ऑनलाइन करने और इंतकाल दर्ज करने के कार्यों की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि सभी तहसीलदार 30 जून तक लंबित जमाबंदियों को ऑनलाइन करवाएं, क्योंकि पूरा ई- खरीफ सीजन हमारे रिकॉर्ड पर आधारित होगा।

इसके साथ उन्होंने राजस्व अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि इंतकाल भी साथ-साथ फीड करें। उन्होंने कहा कि नवनियुक्त पटवारियों को हेलरिस अर्थात हरियाणा लैंड रिकॉड्र्स इनफॉरमेशन सिस्टम के सॉफ्टवेयर को चलाने की ट्रेनिंग भी दें। इस सॉफ्टवेयर में जमाबंदी, इंतकाल, खसरा गिरदावरी आदि सभी ऑनलाइन होती हैं।

बैठक में राजस्व विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव ने गुरुग्राम जिला की सभी तहसीलों व उप-तहसीलों में जमाबंदी को ऑनलाइन करने, लंबित इंतकाल दर्ज करने, तहसील कार्यालय में लंबित कोर्ट केसों और तहसीलों के ऑडिट कार्यों की समीक्षा की। इस समीक्षा के दौरान कोताही पाए जाने पर अतिरिक्त मुख्य सचिव ने सोहना के नायब तहसीलदार और कादीपुर उप-तहसील के गिरदावर को चार्जशीट करने के आदेश भी दिए।

सोहना के नायब तहसीलदार पर शाम 5 बजे के बाद रजिस्ट्री करने का आरोप है और कादीपुर का गिरदावर 4 जमाबंदियों को लंबे समय से अपने पास रखे हुए है। अरोड़ा ने इसे गंभीरता से लिया और कहा कि तहसील में किसी प्रकार की दिक्कत हो बताये लेकिन कोताही बर्दाश्त नहीं होगी।

बैठक में उन्होंने उपस्थित गुरुग्राम के उपायुक्त अमित खत्री और मंडलायुक्त अशोक सांगवान को समय-समय पर तहसीलों के कार्य की समीक्षा करते रहने के भी आदेश दिए।

जो तहसीलदार टेबलेट की मदद से फसलों की गिरदावरी करवा रहे हैं, उनके समक्ष आ रही समस्याओं के बारे में भी उन्होंने पड़ताल की और कहा कि जो टेबलेट खराब है, उन्हें हाट्रोन को वापस कर दें क्योंकि वे टेबलेट सितंबर-2020 तक वारंटी अवधि में है। बैठक में उपस्थित राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव विजयेंद्र कुमार ने कहा कि सॉफ्टवेयर में और भी सुधार किया जा रहा है, जिससे फसलों की गिरदावरी करने में सुविधा होगी।

 

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एमडीयू ने बदला प्रश्न-पत्रों का पैटर्न, बताया ये कारण, पढ़िए

Yuva Haryana, Rohtak एमडीयू ने लॉकडाउन के कारण बाधित हुई पढ़ाई का हवाला देते हुए अपने प्रश्…