16.2 C
Haryana
Friday, December 4, 2020

असली प्रेम कहानी पर आधारित है फिल्म ‘गदर’, पर नहीं हुई थी ‘Happy Ending’

Must read

सरकार और किसानों के बीच फिर बिना नतीजे के खत्म हुई बैठक, 5 दिसंबर को फिर होगी बैठक

Yuva Haryana, 03 December, 2020 नए कृषि कानून के विरोध में देश की राजधानी दिल्ली में किसानों का प्रदर्शन जारी है। किसान संगठनों की मांग...

हरियाणा में साल 2021 की सरकारी छुट्टियों का कलैंडर जारी, जानिए कब-कब रहेगा अवकाश ?

Yuva Haryana, 03 December, 2020 हरियाणा सरकार की तरफ से साल 2021 में सरकारी छुट्टियों को लेकर सरकारी कैलेंडर जारी किया गया है। बता दें...

हरियाणा पुलिस ने जारी की Traffic Advisory, दिल्ली जाने के लिए इन रास्तों का करें इस्तेमाल, देखिए

Yuva Haryana, 03 December, 2020 किसानों के सिंघु बाॅर्डर धरने के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग-44 अवरूद्ध हो गया है। जिसके मध्यनजर पुलिस प्रशासन ने ट्रैफिक एडवाईजरी...

Haryana में आज कोरोना के 1635 नये केस, देखें मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 03 December, 2020 हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन के आकंड़ों के मुताबिक आज प्रदेश में 1635 नये कोरोना...

Share this News
13Shares

Yuva Haryana News

Chandigarh, 21 Oct, 2020

गदर ‘एक प्रेम कथा’

ये फिल्म तो आपने जरूर देखी होगी। 2001 में रिलीज हुई फेमस फिल्म ‘गदर एक प्रेमी कहानी के ऊपर है। जिसमें सनी देओल और अमीषा पटेल को आपने मेन लीड में देखा है। लेकिन क्या आप जानते है कि दिल को छू जाने वाली ये फिल्म वाकई में एक सच्ची घटना पर बनाई गई थी।

ये सच्ची प्रेम कहानी बूटा सिंह और जैनब के ऊपर फिल्मायी गई थी। हालांकि फिल्म में आपको Happy Ending देखने को मिली है। जबकि असलियत में क्या हुआ था, ये जानकर आप चौंक जाएंगे।

ये कहानी, सन 1947 की है। यह वह समय था जब देश बंटवारे की आग में जल रहा था। बताया जाता है कि एक दिन बूटा अपने खेत में काम कर रहा था तभी उसने देखा कि कुछ लड़के, एक लड़की के पीछे पड़े हैं। बिलकुल फिल्मी अंदाज़ में वह लड़की दौड़ती-भागती बूटा से मदद मांगती है और बूटा द्वारा मदद करने के साथ ही दोनों की मोहब्बत का सिलसिला चल पड़ता है। दोनों आगे चलकर शादी कर लेते हैं और उन्हें एक बच्ची होती है।

हालांकि कहानी में असली ट्विस्ट तब आता है जब भारत-पाकिस्तान बंटवारे में पाकिस्तान जा चुके जैनब के घर वालों को उनकी बेटी के बारे में पता चलता है. जिसके बाद जैनब को कुछ दिनों तक भारत के एक रिफ्यूजी कैंप में रखने के बाद पाकिस्तान भेज दिया जाता है और बूटा और उसकी बेटी यहीं हिंदुस्तान में रह जाते हैं।

आगे चलकर जैनब और बूटा की कहानी तब और दर्दनाक मोड़ ले लेती है, जब बूटा अपनी पत्नी को खोजता हुआ पाकिस्तान जा पहुंचता है और यह पाता है कि जैनब अब किसी और की हो चुकी है।

बूटा की लाख मिन्नतों के बावजूद जैनब उसके साथ हिंदुस्तान वापस लौटने से मना कर देती है। जैनब के इस तरह ना कहने से आहत बूटा, लाहौर में ट्रेन के आगे कूदकर जान दे देता है। बता दें कि लाहौर के मियां साहिब कब्रिस्तान में आज भी बूटा की मज़ार मौजूद है।


Share this News
13Shares

More articles

Latest article

सरकार और किसानों के बीच फिर बिना नतीजे के खत्म हुई बैठक, 5 दिसंबर को फिर होगी बैठक

Yuva Haryana, 03 December, 2020 नए कृषि कानून के विरोध में देश की राजधानी दिल्ली में किसानों का प्रदर्शन जारी है। किसान संगठनों की मांग...

हरियाणा में साल 2021 की सरकारी छुट्टियों का कलैंडर जारी, जानिए कब-कब रहेगा अवकाश ?

Yuva Haryana, 03 December, 2020 हरियाणा सरकार की तरफ से साल 2021 में सरकारी छुट्टियों को लेकर सरकारी कैलेंडर जारी किया गया है। बता दें...

हरियाणा पुलिस ने जारी की Traffic Advisory, दिल्ली जाने के लिए इन रास्तों का करें इस्तेमाल, देखिए

Yuva Haryana, 03 December, 2020 किसानों के सिंघु बाॅर्डर धरने के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग-44 अवरूद्ध हो गया है। जिसके मध्यनजर पुलिस प्रशासन ने ट्रैफिक एडवाईजरी...

Haryana में आज कोरोना के 1635 नये केस, देखें मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 03 December, 2020 हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन के आकंड़ों के मुताबिक आज प्रदेश में 1635 नये कोरोना...

जेजेपी ने राज्य सरकार से की मांग, किसान आंदोलन के दौरान किसानों पर दर्ज केस हो वापस

Yuva Haryana, 03 December, 2020 जननायक जनता पार्टी ने राज्य सरकार से आग्रह करते हुए मांग की है कि किसान आंदोलन के दौरान किसानों पर...