Home Breaking हरियाणा में लॉक डाउन में क्या-क्या है छूट, देखिये पूरी जानकारी

हरियाणा में लॉक डाउन में क्या-क्या है छूट, देखिये पूरी जानकारी

0
0Shares

Sahab Ram, Yuva Haryana, Chandigarh

देश में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए 31 मई, 2020 तक बढ़ाई गई लॉकडाउन अवधि के दौरान राज्यों द्वारा किए जाने वाले उपायों से संबंधित केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के कड़ाई से कार्यान्वयन के लिए हरियाणा सरकार ने निर्देश जारी किए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, राज्य और संघ राज्य क्षेत्र अपनी स्थिति के आंकलन के आधार पर विभिन्न जोनों में कुछ अन्य गतिविधियों को निषिद्ध कर सकते हैं या आवश्यक प्रतिबंध लगा सकते हैं।

लॉकडाउन-4 के दौरान कंटेनमेंट जोन को छोडकऱ अन्य क्षेत्रों में गतिविधियों की कुछ प्रतिबंधों के साथ अनुमति होगी। सभी राज्य एवं संघीय क्षेत्र लोगों की आवाजाही के लिए मानक संचालन प्रक्रियाएं लागू करते हुए आपसी सहमति से यात्री वाहनों एवं बसों के एक राज्य से दूसरे राज्य में आवागमन की अनुमति दे सकते हैं। राज्य सरकार अपने क्षेत्रों में रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन निर्धारित करेंगी और जिला प्राधिकरण द्वारा इन जोनस में कंटेनमेंट जोन और बफर जोन का सीमांकन किया जाएगा। कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक गतिविधियों जैसे चिकित्सा संबंधी आपात सेवाएं और आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की अनुमति होगी।

इसके अतिरिक्त, इस अवधि के दौरान आवश्यक गतिविधियों के अलावा, रात्रि 7 बजे से प्रात: 7 बजे के बीच लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध रहेगा। 65 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग, 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे, रोगग्रस्त व्यक्ति एवं गर्भवती महिलाएं केवल आवश्यक कार्य या स्वास्थ्य प्रयोजनों के लिए घर से बाहर आ सकेंगे। कार्यालयों एवं कार्यस्थलों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी कर्मचारियों को अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु एप को इंस्टॉल करना होगा और अपनी स्वास्थ्य स्थिति को नियमित रूप से अपडेट करना होगा।

डॉक्टरों, नर्सों और पैरा-मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मचारियों और ए बुलेंस को बिना किसी रोक-टोक के राज्य के भीतर और एक राज्य से दूसरे राज्य में आने-जाने की अनुमति होगी। इसके अतिरिक्त, खाली ट्रकों सहित व्यापार से संबंधित किसी भी प्रकार के सामान व कार्गो को भी एक राज्य से दूसरे राज्य में आवागमन की अनुमति होगी।

इसके अतिरिक्त, इस अवधि के दौरान सभी घरेलू एवं अंतर्राष्टï्रीय हवाई यात्रा, मैट्रो रेल सेवा, स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक, प्रशिक्षण एवं कोचिंग संस्थान बंद रहेेंगे। होटल, रेस्तरां एवं अन्य अतिथि सेवाएं बंद रहेंगी। लेकिन बस डिपो, रेलवे स्टेशनों और हवाईअड्डो पर कैंटीन चलाने की अनुमति होगी। रेस्तरों को खाद्य वस्तुचण्डीगढ़, 19 मई – हरियाणा सरकार ने देशभर में कोविड-19 के प्रकोप से लोगों के जीवन की रक्षा करने के उद्देश्य से केन्द्र सरकार द्वारा 31 मई, 2020 तक बढ़ाई गई लॉकडाउन-4 की अवधि के दौरान कुछ और गतिविधियों को शुरू करने के संबंध में जारी दिशानिर्देशानुसार कार्यवाही करने का निर्णय लिया है।

केन्द्र सरकार ने राज्यों तथा संघ शासित प्रदेशों की सरकारों को इन दिशानिर्देशों का अनुपालन करने के आलावा अपनी स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने के साथ-साथ अन्य कड़े कदम उठा सकते हैं।

लॉकडाउन-4 के दौरान कंटेनमेंट जोन को छोडकऱ अन्य क्षेत्रों में गतिविधियों की कुछ प्रतिबंधों के साथ अनुमति होगी। सभी राज्य एवं संघीय क्षेत्र लोगों की आवाजाही के लिए मानक संचालन प्रक्रियाएं लागू करते हुए आपसी सहमति से यात्री वाहनों एवं बसों के एक राज्य से दूसरे राज्य में आवागमन की अनुमति दे सकते हैं। राज्य सरकार अपने क्षेत्रों में रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन निर्धारित करेंगी और जिला प्राधिकरण द्वारा इन जोनस में कंटेनमेंट जोन और बफर जोन का सीमांकन किया जाएगा। कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक गतिविधियों जैसे चिकित्सा संबंधी आपात सेवाएं और आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की अनुमति होगी।

इसके अतिरिक्त, इस अवधि के दौरान आवश्यक गतिविधियों के अलावा, रात्रि 7 बजे से प्रात: 7 बजे के बीच लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध रहेगा। 65 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग, 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे, रोगग्रस्त व्यक्ति एवं गर्भवती महिलाएं केवल आवश्यक कार्य या स्वास्थ्य प्रयोजनों के लिए घर से बाहर आ सकेंगे। कार्यालयों एवं कार्यस्थलों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी कर्मचारियों को अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु एप को इंस्टॉल करना होगा और अपनी स्वास्थ्य स्थिति को नियमित रूप से अपडेट करना होगा।

डॉक्टरों, नर्सों और पैरा-मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मचारियों और ए बुलेंस को बिना किसी रोक-टोक के राज्य के भीतर और एक राज्य से दूसरे राज्य में आने-जाने की अनुमति होगी। इसके अतिरिक्त, खाली ट्रकों सहित व्यापार से संबंधित किसी भी प्रकार के सामान व कार्गो को भी एक राज्य से दूसरे राज्य में आवागमन की अनुमति होगी।

इसके अतिरिक्त, इस अवधि के दौरान सभी घरेलू एवं अंतर्राष्टï्रीय हवाई यात्रा, मैट्रो रेल सेवा, स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक, प्रशिक्षण एवं कोचिंग संस्थान बंद रहेेंगे। होटल, रेस्तरां एवं अन्य अतिथि सेवाएं बंद रहेंगी। लेकिन बस डिपो, रेलवे स्टेशनों और हवाईअड्डïों पर कैंटीन चलाने की अनुमति होगी। रेस्तरों को खाद्य वस्तुओं की होम डिलीवरी के लिए किचन चलाने की अनुमति होगी। सभी सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, जिम, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार, सभागार हॉल आदि बंद रहेंगे। खेल परिसरों तथा स्टेडियमों को खोलने की अनुमति होगी, लेकिन दर्शकों को वहां आने की अनुमति नहीं होगी। सभी सामाजिक, राजनैतिक, खेलकूद, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक, धार्मिक कार्य, अन्य सभाओं तथा स मेलनों पर प्रतिबंध रहेगा। इसी प्रकार, सभी धार्मिक एवं पूजा स्थल लोगों के लिए बंद रहेंगे और धार्मिक सभाओं पर प्रतिबंध रहेगा।

लोगों द्वारा सभी सार्वजनिक एवं कार्यस्थलों पर फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक स्थलों पर शराब, पान, गुटका, त बाकू आदि के सेवन की अनुमति नहीं होगी और थूकना दण्डनीय अपराध होगा। दुकानों पर ग्राहकों के बीच कम से कम छ: फीट की दूरी सुनिश्चित की जाएगी और एक समय पर पांच से अधिक व्यक्तियों के इकट्ठा होने की अनुमति नहीं होगी।

भारत के गृह मंत्रालय द्वारा लॉकडाऊन 4.0 के लिए जारी किए गए दिशा-निर्देशों की अनुपालना में हरियाणा के परिवहन विभाग ने राज्य में यात्री-वाहनों हेतु बैठने की क्षमता बारे निर्देश जारी किए हैं।

परिवहन विभाग के एक प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि टैक्सी तथा कैब एग्रीगेटर को अपने यात्री-वाहन में ड्राईवर के अलावा दो यात्रियों को बैठाने की अनुमति होगी यानि ड्राईवर समेत उस गाड़ी में कुल तीन व्यक्ति बैठ सकेंगे। इसी प्रकार, मैक्सी कैब में उसकी बैठने की क्षमता से आधी संख्या, ऑटो-रिक्शा व ई-रिक्शा में ड्राईवर के अलावा 2 व्यक्ति बैठाने की अनुमति होगी। उन्होंने बताया कि दुपहिया वाहन में ड्राईवर के पीछे एक व्यक्ति ही बैठ सकता है, जबकि दोनों को हैलमेट, मास्क और ग्लव्स पहनने अनिवार्य होंगे। किसी व्यक्ति द्वारा खींची जाने वाली रिक्शा में दो से अधिक आदमी नहीं बैठाए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि कंटनेमैंट जोन में आवागमन पर कड़ाई से प्रतिबंध रहेगा तथा केवल आपातकालीन व आवश्यक सामान/सेवाओं के लिए ही वाहन चलने की अनुमति होगी। उक्त सभी मामलों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना तथा मुंह पर मास्क लगाना आवश्यक होगा।

हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह ने कहा कि कोविड-19 की रोकथाम के मद्देनजर भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार हरियाणा में स्पोट्र्स कॉम्पलैक्स तथा स्टेडियमों को खोलने की अनुमति दे दी गई है। इस दौरान जिला खेल एवं युवा मामले अधिकारियों को आवश्यकता अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने तथा सैनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित करने के अलावा सभी कर्मचारियों, खेल प्रशिक्षकों व प्रशिक्षणार्थियों को मुंह पर मास्क पहनने के निर्देश दिए गए हैं।

खेल मंत्री ने आज यहां बताया कि कोविड-19 की रोकथाम के दृष्टिïगत 31 मई, 2020 तक देश में गृह मंत्रालय ने जो दिशा-निर्देश जारी किए हैं उनके तहत हरियाणा सरकार ने भी स्पोट्र्स कॉम्प्लेक्स और स्टेडियम को खोलने की अनुमति दी है, हालांकि दर्शकों को इन स्थलों पर आने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उन्होंने बताया कि निर्देशों के अनुसार सभी खेल कर्मचारियों और खिलाडिय़ों के लिए आरोग्य सेतु का उपयोग करना अनिवार्य किया गया है। खेल विभाग के भवनों में पीडब्ल्यूडी द्वारा एयर-कंडीशनर के उपयोग के संबंध में जारी निर्देश का सख्ती से पालन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि खेल विभाग गैर-संपर्क थर्मल तापमापी से स्वास्थ्य जांच का प्रावधान सुनिश्चित करेगा और इस तरह की स्क्रीनिंग का रिकॉर्ड रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा खेल स्टेडियमों/कॉम्प्लेक्स में प्रवेश करने वाले सभी व्यक्तियों को कोविड-19 के बारे में जागरूक किया जाएगा।

स्टेडियमों के प्रवेश द्वार पर हैंड-सैनिटाइजर उपलब्ध कराए जाएंगे और उचित स्वच्छता प्रक्रिया पर दिशा-निर्देशों के साथ एक सूचना प्रदर्शित की जाएगी। उन्होंने बताया कि फुट-पैडल सैनिटाइजर/किसी भी अन्य सेंसर आधारित सैनिटाइजर को सभी खेल-केंद्रों के अलावा चिकित्सा केंद्र, डाइनिंग हॉल/मेस और अन्य प्रवेश बिंदुओं पर रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का पालन किया जाएगा तथा स्टेडियम/परिसर क्षेत्र में मास्क का उपयोग किया जाएगा। प्रशिक्षुओं और कर्मचारियों को व्यक्ति के बीच न्यूनतम 1.5 से 2 मीटर की सोशल डिस्टेंसिंग  के मानदंड का कड़ाई से पालन करना होगा। हैंडशेक और अन्य प्रकार के अभिवादन, जिन्हें शारीरिक संपर्क होता है, से बचा जाना चाहिए।

खेल मंत्री ने कहा कि व्यक्तिगत उपकरण जैसे धनुष, बंदूक, तलवार, भाला, डिस्कस, रैकेट आदि का बिना सांझा किए उपयोग किया जाएगा और हरेक के उपयोग के बाद कीटाणुरहित किया जाएगा। खेल के विशिष्ट सुरक्षा उपकरण जैसे हेलमेट, आई प्रोटेक्टर, फेस प्रोटेक्टर आदि सांझा नहीं किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण गतिविधियों को छोटे समूहों (अधिकतम 8-10 खिलाड़ी) में किया जा सकता है।

एथलीटों को उन खेल-अभ्यासों से बचना चाहिए जिनसे शारीरिक संपर्क होता है। प्रशिक्षुओं को इस अवधि के दौरान फ्री-हैंड अभ्यास करने और बड़े पैमाने पर योग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। टीम-स्पर्धाओं के मामले में किसी मैदान में एक घंटे के लिए 18 खिलाड़ी और दो कोच मौजूद रहेंगे और उनके जाने के बाद ही दूसरे समूह को अंदर लाया जा सकता है। व्यक्तिगत स्पर्धाओं के मामले में कोच एक बार में 10 खिलाडिय़ों को कोचिंग दे सकता है और दूसरे समूह को पहले समूह के जाने के बाद ही स्टेडियम में आने की अनुमति होगी।

उन्होंने बताया कि प्रत्येक कमरे में सभी चिकित्सा-कक्ष के फर्नीचर को सुबह 8.30 बजे से पहले और फिर एक बार सुबह 11 बजे सैनेटाइज किया जाएगा। बिल्डिंग कॉम्प्लेक्स में खिलाड़ी-मरीजों के प्रवेश द्वार में  दीवार पर सेंसर आधारित हैंड-सैनिटाइजर होगा जिसे प्रवेश से पहले हर मरीज को इस्तेमाल करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि जितना संभव हो सके, एथलीट टेली-परामर्श का सहारा लेंगे। उन्होंने बताया कि खेल-केंद्र में वितरित किए जाने वाले पैक्ड-भोजन/ताजे फल आदि की आपूर्ति उपयोग से 24 घंटे पहले तक तथा कार्डबोर्ड पैकिंग 72 घंटे की अवधि के लिए एक खुले क्षेत्र में रखे जाएंगे। फलों और सब्जियों को कुछ घंटों के लिए पतला सिरका, नमक या नींबू पानी में भिगोया जा सकता है और खाने से पहले सूखने के लिए छोड़ दिया जाना चाहिए।

खेल मंत्री ने बताया कि अभी स्विमिंग-पूल को किसी भी परिस्थिति में नहीं खोला जाएगा। उन्होंने सभी खिलाडिय़ों, प्रशिक्षकों व विभाग के कर्मचारियों को अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने का आह्वान करते हुए कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में प्रशिक्षकों को खिलाडिय़ों का ट्रेनिंग-प्रोग्राम बनाने से पहले गर्मी के तापमान को ध्यान में अवश्य रखना चाहिए।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पंचकूला में मिले कोरोना के चार नए मरीज, देखिए 24 घंटों कितनी हुई बढ़ोतरी

Umang Sheoran, Yuva Haryana, Panchkula पंचकूला &…