26.5 C
Haryana
Monday, November 30, 2020

हरियाणा में अब हर गांव की जमीन के कलेक्टर रेट होंगे तय, कम होंगे जमीनी विवाद

Must read

कुरुक्षेत्र में SDM को किया गया सस्पेंड, जानें क्या है पूरा मामला ?

Yuva Haryana, 30 November, 2020 हरियाणा के कुरूक्षेत्र जिले में SDM को सस्पेंड किया गया है। दरअसल एसडीएम पर आरोप है कि वह ओवरलोडिग गाड़ियां...

कोरोना से हारी भाजपा विधायक Kiran Maheshwari, एक महीने से लड़ रही थी जंग

Yuva Haryana, 30 November, 2020 प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के बीच राजस्थान की राजनीतिक क्षेत्र से भी दुखद खबर सामने आई...

मोर्चाबंदी: दिल्ली से जुड़े पांच नेशनल हाईवे रोकने की तैयारी में किसान

Yuva Haryana, 30 November, 2020 केंद्र सरकार द्वारा लागू कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली कूच कर रहे पंजाब के किसानों को रोकने के बाद...

हरियाणा में इस बार पड़ेगी कड़ाके की ठंड, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

Yuva Haryana, 30, November, 2020 मौसम विभाग के अनुसार हरियाणा में अगले तीन महीनों में जबरदस्त ठंड पडेगी, यानी दिसंबर से फरवरी 2021 तक हरियाणा...

Share this News
112Shares

Yuva Haryana News

Chandigarh, 21 Oct, 2020

हरियाणा में अब सरकार ने हर गांव की जमीन के कलेक्टर रेट तय करने की तैयारी कर ली है। इसके लिए अधिकारियों की आज बैठक हुई जिसमें सभी गांवों की जमीनों के लिए अलग-अलग क्लेक्टर रेट तय करने के बारे में चर्चा की गई। इस नई योजना के तहत अगर एक तहसील में पचास गांव है तो हर गांव के लिए अलग-अलग रेट तय होंगे।

इस योजना के तहत सरकार का मानना है कि आपस में जमीनी विवाद कम होंगे और सरकार को राजस्व का फायदा होगा। जमीनों को कलेक्टर रेट तय होने के बाद यह भी होगा कि कम रेट पर रजिस्ट्री नहीं होगी। अभी तक पूरे तहसील के रेट के हिसाब से ही कलेक्टर रेट तय करके रजिस्ट्री की जा रही है।

मौजूदा फॉर्मूला के मुताबिक अगर पांच लाख की जमीन है तो उसको दो लाख रुपये की जमीन दिखाकर रजिस्ट्री की जा रही है। ऐसे में सरकार को काफी राजस्व का नुकसान हो रहा है। गांवों की जमीनों के क्लेक्टर रेट तय होने के बाद इस प्रकार का सिस्टम नहीं रहेगा और हर गांव के लिए अलग-अलग कलेक्टर रेट पर ही रजिस्ट्री होगी।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वित्त एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों को जनवरी तक पूरे प्रदेश में सभी जिलों में जमीनों के कलेक्टर रेट तय करने के निर्देश दिए हैं। यह कलेक्टर रेट हर साल तय होंगे। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि डीसी रेट तय करने के लिए पूरे प्रदेश में एक समान पद्धति बनाई जाए। यह रेट तहसील स्तर पर भी बनने चाहिए।

प्रदेश में कई जिले और तहसीलें ऐसी हैं, जहां जमीनों के रेट काफी हैं लेकिन कई जिले व तहसीलें ऐसी हैं, जिनमें रेट कम हैं। सरकार की जानकारी में यह भी आया है कि कहीं-कहीं तो डीसी रेट ज्यादा है और जमीनों का मार्केट रेट कम है, जबकि कई जिलों में मार्केट रेट ज्यादा है, मगर डीसी रेट कम है। सिस्टम की इस खामियों को दूर किए जाने की जरूरत है।

 


Share this News
112Shares

More articles

Latest article

कुरुक्षेत्र में SDM को किया गया सस्पेंड, जानें क्या है पूरा मामला ?

Yuva Haryana, 30 November, 2020 हरियाणा के कुरूक्षेत्र जिले में SDM को सस्पेंड किया गया है। दरअसल एसडीएम पर आरोप है कि वह ओवरलोडिग गाड़ियां...

कोरोना से हारी भाजपा विधायक Kiran Maheshwari, एक महीने से लड़ रही थी जंग

Yuva Haryana, 30 November, 2020 प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के बीच राजस्थान की राजनीतिक क्षेत्र से भी दुखद खबर सामने आई...

मोर्चाबंदी: दिल्ली से जुड़े पांच नेशनल हाईवे रोकने की तैयारी में किसान

Yuva Haryana, 30 November, 2020 केंद्र सरकार द्वारा लागू कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली कूच कर रहे पंजाब के किसानों को रोकने के बाद...

हरियाणा में इस बार पड़ेगी कड़ाके की ठंड, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

Yuva Haryana, 30, November, 2020 मौसम विभाग के अनुसार हरियाणा में अगले तीन महीनों में जबरदस्त ठंड पडेगी, यानी दिसंबर से फरवरी 2021 तक हरियाणा...

सबसे पिछड़े व्यक्ति का विकास करना ही सरकार की प्राथमिकता- Cm Manohar Lal

Yuva Haryana, 29 November, 2020 हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि समाज के सबसे पिछड़े व्यक्ति को सरकारी योजनाओं का सबसे पहले लाभ...