Breaking खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

हरियाणा में पराली बेचना और भी आसान, पोर्टल देगा ठेकेदारों- उद्योगों का पता

Yuva Haryana News

Chandigarh, 22 Oct, 2020

हरियाणा सरकारी की तरफ लगातार किसानों को पराली न जलाने को लेकर जागरूक किया जा रहा है। इससे वायु प्रदूषित तो होता है, जिससे हमारे स्वास्थ्य पर भी काफी गहरा असर पड़ता है। लेकिन सरकार की किसानों की पराली खरीदकर उन्हें पैसे मुहैया कराने की योजना काफी कारगर साबित हो रही है।

हरियाणा में पराली प्रबंधन (Stubble Management) ने अब तक करीब 1.75 लाख टन पराली की खरीद बायोमास प्लांट्स कर चुके हैं। पूरे सीजन में करीब 8.58 लाख टन पराली खरीदी जाएगी। पोर्टल पर पराली खरीदने वाले ठेकेदारों व उद्योगों की जानकारी डाली गई है। जो किसान पराली बेचना चाहता है, वह पोर्टल के जरिये उद्योगों से सीधा संपर्क कर सकता है। किसानों को पराली प्रबंधन के लिए पहले ही एक हजार रुपये प्रति एकड़ दिए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव डीएस ढेसी की अध्यक्षता में गत दिवस हुई समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी गई। पराली प्रबंधन के लिए कस्टम हायरिंग सेंटर के जरिये किसानों को 80 फीसद तक की सब्सिडी पर मशीनरी उपलब्ध कराने के लिए 152 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

इन मशीनों पर किसानों को व्यक्तिगत स्तर पर 50 फीसद सब्सिडी दी जाती है जिसके लिए 216 करोड़ रुपये अलग से रखे गए हैं। पराली का स्टाक एकत्रित करने के लिए ठेकेदारों व किसान समूहों को ग्राम पंचायत की भूमि दी जा रही है।

प्रदूषण के मामले में गुरुग्राम बेहतर स्थिति में है। दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) जहां 200 से 250 के बीच रहा, वहीं गुरुग्राम का 200 से नीचे है। अंबाला, हिसार, फतेहाबाद और करनाल में विशेष मानीटरिंग की जा रही है।

-24 उद्योगों ने अपनी ऊर्जा खपत के लिए पराली का उपयोग करने के लिए सहमति दी है
-कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद व फतेहाबाद में पराली से ऊर्जा बनाने के लिए चार चार कंपनी लगाएंगी संयंत्र। प्रति वर्ष 5.7 लाख टन पराली का होगा इस्तेमाल
-हरेडा के माध्यम से 111.51 मेगवाट क्षमता के 25 बायोमास ऊर्जा प्लांट लगाए जाएंगे जिससे करीब 1.80 लाख टन पराली की खपत होगी
-भारतीय तेल निगम पानीपत में इथेनाल गैस प्लांट लगाएगा। तेल कंपनियों की मदद से 66 कंप्रेस्ड बायोगैस प्लांट स्थापित किए जाएंगे जिनमें पराली से रोजाना 353.56 टन गैस उत्पन्न होगी।
-रोहतक के कलानौर में छह टन दैनिक क्षमता के साथ मैसर्ज स्पैक्ट्रम रिन्यूएबल एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा प्लांट स्थापित किया जा रहा है। इसमें सालाना 4320 टन पराली की खपत होगी।
-करनाल के बस्ताड़ा में अजय बायो ऊर्जा प्राइवेट लिमिटेड द्वारा 12.5 टन दैनिक क्षमता का प्लांट लगाया जा रहा है जिसमें सालाना छह हजार टन पराली का उपयोग होगा
-हिसार के डाटा में 2.4 टन प्रतिदिन की क्षमता वाले मैसर्ज जागलान कंटेक्टर एंड सिक्युरिटी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा भी पहले चरण का निर्माण कार्य शुरू किया है।
-पिहोवा में सैनसंज पेपर उद्योग प्राइवेट लिमिटेड द्वारा हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन के साथ स्थापित 2.4 टन -दैनिक क्षमता वाले प्लांट में 43 हजार टन पराली अभी तक खरीदी जा चुकी है
नारायणगढ़ शुगर मिल व शाहबाद सहकारी चीनी मिल भी बायोमास ऊर्जा के लिए पराली खरीद रहे हैं।

ये भी पढ़िये >>

हरियाणा के हेल्थ डिपार्टमेंट को मिले 5 अवॉर्ड, क्या इतने अच्छे हैं हमारे सरकारी अस्पताल ?

Yuva Haryana

पिछले साल के मुकाबले इस साल दोगुनी रफ्तार से बढ़ा हरियाणा का टैक्स कलेक्शन, बेहतर हुई राज्य की आर्थिक स्थिति

Yuva Haryana

SSC CGL के परीक्षा परिणाम पर लगी रोक, लाखों युवाओं को था इंतजार

Yuva Haryana

बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस की मोर्चाबंदी, रेवाड़ी में कांग्रेस नेताओं ने किया विरोध प्रदर्शन

Yuva Haryana