Breaking खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

कांग्रेस के षड़यंत्र के बावजूद हरियाणा के किसान की सही तरीके से हो रही खरीद- कृषि मंत्री

Yuva Haryana News

Chandigarh, 12 Oct, 2020

चंडीगढ़ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि हरियाणा की मंडियों में सुचारू रूप से चल रही है। कांग्रेस के षड़यंत्र के बावजूद किसानों और आढ़तियों के सहयोग से खरीद सही तरह से हो रही है। कृषि मंत्री ने बताया कि 60 हजार मीट्रिक टन बाजरे की खरीद हुई है, जबकि 15 लाख मीट्रिक टन की धान खरीद की है। इसी तरह 3 लाख क्विंटल कपास की खरीद की है।

दलाल ने कहा कि 913 करोड़ किसानों से प्रीमियम लिए हैं, जबकि 2944 करोड़ किसानों को मुआवजा दिया गया है। उन्होंने कहा कि बागवानी और फल- सब्जी की फसल का भी बीमा होगा। सब्जी और फलों की फ़सल का ढाई फ़ीसदी प्रीमियम प्रति एकड़ लिया जाएगा।

कृषि मंत्री ने बताया कि 40 हजार के बीमे के लिए किसान को करीब 1 हजार रुपये देने होंगे। 14 सब्जी औऱ मुख्यत हरियाणा के चार फल, जबकि 2 मसाले की फसल बीमा दायरे में आएगी। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए हर तरफ का फैसला सरकार लेने के लिए तैयार है और किसानों को जोखिम फ़्री करना सरकार की प्राथमिकता है।

जेपी दलाल ने कहा कि किसान पीएम फ़सल योजना में रुचि ले रहें हैं, इसलिए अब हरियाणा सरकार ने फल और सब्जी की फसल को बीमा के दायरे में लेकर आएं हैं। 2944 करोड़ रुपये हरियाणा की मौजूदा सरकार ने किसानों को मुआवजा दिया गया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार में किसानों को बिजली पर 4853 करोड़ की वार्षिक सब्सिडी थी जो आज हमारी सरकार में 6800 करोड़ से ज्यादा हो गई है।

दलाल ने कहा एशिया की सबसे बड़ी मंडी गनौर में बनने जा रही जबकि पंचकूला में एपल मंडी बन रही है लेकिन कांग्रेस मंडी खत्म किए जाने का दुष्प्रचार कर रही है। पशुपालकों के लिए पशुधन क्रेडिट कार्ड सरकार ने बनाकर दिए हैं।

ये भी पढ़िये >>

सामाजिक पेंशन को लेकर बड़ा बदलाव, जानिए कब तक निकलवा सकेंगे पेंशन ?

Yuva Haryana

2014 में नलवा से बीजेपी प्रत्याशी रहे मास्टर हरी सिंह आज कांग्रेस में होंगे शामिल

Yuva Haryana

गांव में नशे को ना रोकना सरपंच को पड़ा महंगा, कमेटी ने लगा दिया 5100 रुपये का जुर्माना

Yuva Haryana

JBT भर्ती घोटाले में बड़ी कार्रवाई, अब शिक्षा विभाग के 48 अधिकारियों की रोकी पेंशन

Yuva Haryana