16.5 C
Haryana
Thursday, December 3, 2020

KBC में अमिताभ बच्चन क्या बोलेंगे, 20 साल से एक ही शख्स लिख रहा है स्क्रिप्ट

Must read

हरियाणा में आज कोरोना के 1607 नये केस, देखिए स्वास्थ्य विभाग का मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन के आकंड़ों के मुताबिक आज प्रदेश में 1607 नये कोरोना...

कैथल में विजिलेंस टीम का छापा, पटवारी रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा के कैथल जिले में विजिलेंस की टीम को बड़ी कामयाबी मिली है। बता दें कि टीम ने यहां एक...

हरियाणा में उपभोक्ताओं को बड़ी राहत, पांच फीसदी तक सस्ती मिलेगी प्रीपेड मीटर से बिजली

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा बिजली वितरण निगमों ने बिजली को प्रीपेड रूप में देने की तैयारी पूरी कर ली है। अब स्मार्ट मीटर...

Share this News
7Shares

Yuva Haryana News

Chandigarh, 12 Oct, 2020

छोटे परदे का वो शो, जो बिग बना क्योंकि इसको होस्ट और कोई नहीं, बल्कि बॉलीवुड के सुपर स्टार अमिताभ बच्चन करते हैं। कौन बनेगा करोड़पति के देश-विदेश में भी करोड़ों फैंस है क्योंकि ये शो केवल Entertainment नहीं, ज्ञान की वो बातें बताता है, जो शायद पहले न पता हों।

KBC का सबसे फेमस डायलॉग नमस्कार, आदाब, सतश्री अकाल, देवियों और सज्जनों, कौन बनेगा करोड़पति में आपका स्वागत है!

अमिताभ बच्चन की इस आवाज में वो दम है, जो घर में बैठे लोगों को किसी भी काम करने से रोक कर शो को देखने के लिए मजबूर कर देता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस शो की कामयाबी के पीछे अमिताभ बच्चन के अलावा एक और शख्स है, जो इसके हकदार हैं। वो शख्स जिन्होंने हर डायलॉग में जान डाली है।

हिंदी और उर्दू के बेहतरीन शब्दों की जानदूगरी लेखक आरडी तैलंग करते हैं। तैलंग ही वो शख्स हैं जो साल 2000 से लेकर 2020 तक ‘कौन बनेगा करोड़पति’ शो की स्क्रिप्ट लिख रहे हैं।

इतने सालों में उन्होंने सिर्फ अमिताभ बच्चन के लिए ही नहीं बल्कि तीसरे सीज़न के होस्ट शाहरुख़ ख़ान के लिए भी स्क्रिप्ट लिखी थी।

कैसे मिला KBC से जुड़ने का मौका ?

मध्यप्रदेश के रहने वाले आरडी तैलंग ने ये कभी नहीं सोचा था कि मुंबई उनकी कर्मभूमि बन जाएगी। दरअसल, अपने एक रिश्तेदार को छोड़ने के लिए वो मुंबई आए थे। वे कहते हैं कि ‘जब यहाँ आया तो मुझे ये शहर अच्छा लगा. तब मैंने खुद से और इस शहर से एक सवाल किया कि इतनी भीड़ में क्या मेरा कुछ नहीं हो सकता? ये शहर मुंबई के लोगों की आवाज़ सुनता है, इसने मुझे भी सुन लिया.’

“मुंबई ने मुझे अपना लिया. मैंने एक छोटे से अख़बार से पत्रकार के तौर पर अपनी शुरुआत की. 1995 में जिस दौरान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का आगाज़ ही हुआ था, उन दिनों हम भी सीखते-सीखते इस नए मीडिया के साथ आगे बढ़े.”

“पहले पहल मैंने एसिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर काम किया. फिर मुझे लगा कि मैं लेखन में अपना हाथ आज़मा सकता हूँ. अपने आसपास मैंने ये भी देखा कि लोग उस दौरान लेखक की बहुत इज़्ज़त भी किया करते थे. इसलिए मैंने फ़ैसला किया कि मैं लेखक ही बनूँगा.”

“मैंने धीरे-धीरे थोड़ा बहुत लिखना शुरू किया और फिर बड़ा ब्रेक मिला ‘मूवर्स और शेकर्स’ के साथ. इसके बाद साल 2000 में मुझे ‘कौन बनेगा करोड़पति’ शो के साथ जुड़ने का मौक़ा मिला. अब पूरे बीस साल हो गए हैं केबीसी और अमिताभ बच्चन के साथ काम करते हुए. तैलंग कहते हैं कि उनके सफल लेखक बनने में पत्रकारिता का बहुत बड़ा हाथ है.

वे बताते हैं कि ‘कौन बनेगा करोड़पति’ शो को आज देश के हज़ारों घरों में देखा जाता है. साथ ही इस शो से जुड़ना भी सम्मान की बात मानी जाती है।

शो को कामयाब बनाने में इसके डायलॉग्स की भूमिका अहम है। शो में बोले जाने वाले डायलॉग्स और कविताएं शो में भाग लेने वाले खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ाने और दर्शकों को शो से बांधे रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

इस तालमेल के बारे में तैलंग कहते हैं, “हमारे लिए ये बेहद चुनौतीपूर्ण होता है कि हम जो कुछ भी लिखें, उसे शो में पढ़ते वक्त ऐसा न लगे कि होस्ट सामने रखी स्क्रिप्ट पढ़ रहा है. बल्कि ऐसा होना चाहिए कि लेखक अपनी लेखनी बताने की बजाय सामने वाले की शब्दावली को पूरी तरह अपना ले.”

“आप इसी को अपनी लेखनी के मूल में रखेंगे तो ऐसा लगेगा कि होस्ट जो बोल रहा है वो उसकी खुद की सोच है. अगर ऐसा होता है तो ये ही लेखक की सफलता है. मैंने यही कोशिश की है और इसी का परिणाम है कि ऐसा लगता है कि शो में अमिताभ बच्चन जो कह रहे हैं वो उनके अपने विचार हैं.”

अमिताभ बच्चन के साथ अपनी कामयाब जोड़ी के बारे में तैलंग कहते हैं, “बच्चन जी के साथ काम करने का ये मेरा 20वां साल है. अगर लोगों को लगता है कि इतने सालों में मेरा उनके साथ एक कम्फर्ट लेवल बन गया होगा तो ऐसा कतई नहीं है.”

“आज भी उनके पास कविता या डायलॉग लेकर जाता हूँ तो वो सबसे पहले उसे पढ़ते हैं. उन्हें लाइनें सुनना अच्छा नहीं लगता. उन्हें खुद पढ़ना अच्छा लगता है.”

“मैं आज भी लोगों को कहता हूँ कि मेरे लिए सबसे कठिन समय वो होता है जब वो मेरी लाइनें पढ़ रहे होते हैं. इस दौरान वो बेहद संजीदा अंदाज़ में होते हैं लेकिन इस तरफ मेरी धड़कनें बढ़ रही होती हैं. मुझे समझ नहीं आता है कि रिएक्शन कैसा होगा?”

“पहले दिन यही हुआ और आज तक यही होता है. मेरी धड़कन आज भी उतनी ही तेज़ी से चलती है. वही घबराहट, वही बैचेनी, पहले की तरह पसीने छूटते हैं. जबकि केबीसी के अलावा भी मैं बच्चन साहब के इवेंट के लिए कविताएं लिखता हूँ.

 


Share this News
7Shares

More articles

Latest article

हरियाणा में आज कोरोना के 1607 नये केस, देखिए स्वास्थ्य विभाग का मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन के आकंड़ों के मुताबिक आज प्रदेश में 1607 नये कोरोना...

कैथल में विजिलेंस टीम का छापा, पटवारी रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा के कैथल जिले में विजिलेंस की टीम को बड़ी कामयाबी मिली है। बता दें कि टीम ने यहां एक...

हरियाणा में उपभोक्ताओं को बड़ी राहत, पांच फीसदी तक सस्ती मिलेगी प्रीपेड मीटर से बिजली

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा बिजली वितरण निगमों ने बिजली को प्रीपेड रूप में देने की तैयारी पूरी कर ली है। अब स्मार्ट मीटर...

यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बने बीवी श्रीनिवास, सोनिया गांधी ने जारी किए आदेश

Yuva Haryana, 02 December, 2020 कांग्रेस की युवा इकाई के अंतरिम अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी को संगठन का पूर्णकालिक अध्यक्ष नियुक्त किया गया। पार्टी के संगठन...