Online Transaction करते हैं तो हो जाइए सावधान, साइबर ठगों ने अपनाया है ठगी का ये नया तरीका

 Yuva Haryana, 27 January, 2021

आजकल लाइफ काफी डिजिटल हो चुकी है। हर काम ऑनलाइन किए जा रहे हैं। ऐसे ही अगर आप Online Transcation करते हैं। तो आपको अब थोड़ा सावधान रहना पड़ेगा। क्योंकि साइबर ठगों ने ठगी का नया तरीका अपनाया है। बता दें कि अगर आपकी ट्रांजक्शन किसी भी कारण पूरी नहीं हो पाती और आपके खाते से राशि कट जाती है, तो इसके बाद आपको थोड़ा संभलना होगा। यह राशि हासिल करने में यदि थोड़ी भी चूक हो गई, तो आपके खाते से अच्छी खासी रकम कट जाएगी।

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि ऐसा ही मामला अंबाला में सामने आया है, जहां साइबर अपराधियों ने बड़े ही शातिराना अंदाज में पीडि़त के खाते से हजारों रुपये की राशि उड़ा ली। उल्लेखनीय है कि साइबर अपराधी अब तक दूसरों के खातों से राशि उड़ाने के लिए ओटीपी का सहारा लेते रहे हैं। कभी बैंक अधिकारी बनकर तो कभी किसी अन्य तरीके से पीडि़त के मोबाइल पर ओटीपी भेजते रहे। यह ओटीपी हासिल करते ही पीडि़त के खाते से अच्छी खासी रकम साफ कर डालते। इसी तरह ई-कामर्स साइट के जरिये भी यह साइबर अपराधी अपने मंसूबों को कामयाब करते रहे।

अब दूसरी ओर साइबर अपराधियों ने इसका नया तरीका ढूंढ लिया है। यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे के खाते में गूगल-पे या अन्य किसी माध्यम से ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करता है तो सावधानी बरतनी होगी। यदि यह ट्रांजेक्शन कंपलीट नहीं होती और राशि खाते से कट जाती है, तो इसके बाद का प्रोसेस संभलकर करना होगा।

ऐसी ट्रांजेक्शन को हासिल करने के लिए कस्टमेर केयर पर फोन करने पर कॉलर ट्रांजेक्शन की सारी डिटेल हासिल करता है। इसके साथ ही यह शातिर पीडि़त को उसकी राशि हासिल करने के लिए उसके (पीडि़त के) मोबाइल के आखिरी पांच नंबर दबाने को कहता है। जैसे ही पीडि़त यह पांच  नंबर दबाता है, तो उसके खाते से उतनी ही राशि उसके खते से कट जाती है। ऐसा ही मामला बराड़ा थाने में आया, जहां  पीडि़त को 93 हजार से अधिक की राशि की चपत लग गई।

Scroll to Top