16.5 C
Haryana
Thursday, December 3, 2020

हरियाणा में होंगे मध्यावधि चुनाव, 15 साल के वनवास के बाद होगी INLD की अगली सरकार-चौटाला

Must read

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओपी चौटाला कोरोना संक्रमित, मेदांता में भर्ती

Yuva Haryana, 03 December, 2020 हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। उन्हें इलाज के लिए...

नहीं रहे मसालों के बादशाह MDH वाले महाशय धर्मपाल, हार्ट अटैक से निधन

Yuva Haryana, 03 December, 2020 देश की दिग्गज मसाला कंपनी महाशिया दी हट्टी (MDH) के मालिक महाशय धर्मपाल जी का निधन हो गया है। सुबह...

हरियाणा में आज कोरोना के 1607 नये केस, देखिए स्वास्थ्य विभाग का मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन के आकंड़ों के मुताबिक आज प्रदेश में 1607 नये कोरोना...

Share this News
101Shares

Yuva Haryana News

Chandigarh, 15 Oct, 2020

इनेलो सुप्रीमों ओप प्रकाश चौटाला ने कहा है कि पांडवों ने 12, श्रीराम ने 14 व हमने 15 साल का वनवास अब तक काट लिया है। चौटाला ने दावा किया है कि प्रदेश में अगली सरकार इनेलो की होगी। उन्होंने कहा कि देश की हालत बहुत खराब है। हमारा कृषि प्रधान देश है और देश की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है।

op chautala

ओपी चौटाला ने कहा कि बरोदा उपचुनाव के बाद जजपा टूट जाएगी। कुछ विधायक बीजेपी तो कुछ दूसरे दलों में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मध्यावधि चुनाव के पूरे आसार हैं। चौटाला को दोबारा अपनाकर जनता का नुकसान करने के वे पक्षधर नहीं हैं। भाजपा व कांग्रेस को बरोदा के लिए उम्मीदवार ही नहीं मिल रहा, जबकि जजपा का तो दिवाला ही पिट गया है।

उन्होंने कहा कि जो पोते देवीलाल को दादा न मानकर रामकुमार गौतम को दादा मानते थे, वे गौतम भी पोतों को छोड़कर जा रहे हैं। जजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने के सवाल का जवाब देते हुए चौटाला ने कहा कि जब वो छोड़कर गए थे, उसके बाद भी यही कहा था कि मिलकर चुनाव लड़ लें, लेकिन उन्होंने नहीं मानी। अगर हम इकट्ठे होते तो प्रदेश में इनेलो की सरकार बननी थी, वह और अजय सिंह तो मुख्यमंत्री बन नहीं सकते थे, क्योंकि हम तो जेल में थे और अभय सिंह ने चुनाव लड़ने से मना ही कर दिया था।

op chautala

उस समय चौथी पीढ़ी के लोगों को मौका मिलना था और आज दुष्यंत उप-मुख्यमंत्री की बजाय मुख्यमंत्री होता। उन्होंने भविष्य में इनेलो व शिरोमणि अकाली दल के साथ हरियाणा में गठबंधन से इंकार नहीं किया। ओपी ने कहा कि उनकी लड़ाई एसवाईएल के पानी की है, जो लेकर रहेंगे।

वहीं, चौटाला ने पार्टी छोड़ कर गए नेताओं की घर वापसी के सवाल पर कहा कि अशोक अरोड़ा हमारी पार्टी के अध्यक्ष थे, जिनको हमने बहुत ज्यादा सम्मान दिया हुआ था, वो चले भी गए चुनाव भी लड़ लिया हार भी गए। अब फिर इस प्रयास में हैं कि दोबारा इनेलो में शामिल हो जाएं। रामपाल माजरा और परमेंद्र ढुल की घर वापसी पर उन्होंने कहा कि ये ही नहीं इनके साथ संपत सिंह भी इनेलो में वापस आना चाहते हैं।

 

 

 


Share this News
101Shares

More articles

Latest article

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओपी चौटाला कोरोना संक्रमित, मेदांता में भर्ती

Yuva Haryana, 03 December, 2020 हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। उन्हें इलाज के लिए...

नहीं रहे मसालों के बादशाह MDH वाले महाशय धर्मपाल, हार्ट अटैक से निधन

Yuva Haryana, 03 December, 2020 देश की दिग्गज मसाला कंपनी महाशिया दी हट्टी (MDH) के मालिक महाशय धर्मपाल जी का निधन हो गया है। सुबह...

हरियाणा में आज कोरोना के 1607 नये केस, देखिए स्वास्थ्य विभाग का मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन के आकंड़ों के मुताबिक आज प्रदेश में 1607 नये कोरोना...

कैथल में विजिलेंस टीम का छापा, पटवारी रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार

Yuva Haryana, 02 December, 2020 हरियाणा के कैथल जिले में विजिलेंस की टीम को बड़ी कामयाबी मिली है। बता दें कि टीम ने यहां एक...